कोविड से बचाव के उपाय अपनाकर पालक बने बच्चों के लिए प्रेरणा स्रोत : सारिका घारू

कोविड से बचाव के उपाय अपनाकर पालक बने बच्चों के लिए प्रेरणा स्रोत : सारिका घारू
a-source-of-inspiration-for-children-who-became-foster-parents-by-adopting-measures-to-prevent-kovid

विज्ञान प्रसारक ने कहा-घर आंगन के बाहर बच्चों के लिए खींच दे लक्ष्मण रेखा, तभी रुकेगी कोरोना की तीसरी लहर भोपाल, 16 जून (हि.स.)। देशभर में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए वैक्सीनेशन जारी रहने के बाद अब जबकि वैज्ञानिकों ने तीसरी वेब में बच्चों के प्रभावित होने की आशंका जताई है। ऐसे में बच्चों का वैक्सीनेशन नहीं होने से उन्हें कोविड से बचाव के उपाय संबंधी व्यवहार अपनाना आवश्यक हो गया है। इसके लिए सभी पालकों को जिम्मेदारी तय करनी होगा। बच्चों के लिए घर आंगन के बाहर की लक्ष्मण रेखा खींचनी होगी, तभी कोरोना की तीसरी लहर रुक सकेगी। यह बात भोपाल की नेशनल अवॉर्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने बुधवार को एक जागरूकता कार्यक्रम में बताई। सारिका ने बताया कि विद्यार्थियों के लिए स्कूल बंद रहने के बाद भी बच्चे अपने घर के आसपास रोड मैदान में भी सामूहिक रूप से खेलते दिख जाते हैं, जो कि उचित नहीं है। उन्होंने संदेश दिया कि कोविड की वैज्ञानिक जानकारी देकर लगातार सभी सुरक्षा उपाय अपनाने की आदत डालें। इन उपायों का पालक स्वयं भी पालन करें, ताकि बच्चों को इन्हें अपनाने की प्रेरणा मिले। निराश होने की अवश्यकता नहीं है। कोरोना से बचाव के लिए बच्चों के लिए कोरोना के टीके का परीक्षण आरम्भ हो रहा है और जल्दी ही बच्चों के लिए बनाई लक्ष्मण रेखा मिट जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश