जिनका-समग्र-जीवन-स्वयं-एक-प्रयोगशाला-था |Whose Whole Laboratory Itself समग्र जीवन प्रयोगशाला Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

जिनका समग्र जीवन स्वयं एक प्रयोगशाला था

जिनका समग्र जीवन स्वयं एक प्रयोगशाला था

भारत में विवेकानंद को एक देशभक्त संत के रूप में माना जाता है। वे अध्यात्म की अतल गहराइयों में डुबकी लगाने वाले योग साधक थे तो व्यवहार में जीने वाले गुरु भी थे। वे प्रज्ञा के पारगामी थे तो विनम्रता की बेमिशाल नजीर भी थे। वे करुणा के सागर थे तो प्रखर समाज सुधारक भी थे। उनमें वक्तृता थी तो शालीनता भी। कृशता थी तो तेजस्विता भी। आभिजात्य मुस्कानों के निधान अतीन्द्रिय चेतना के धनी प्रकृति में निहित गूढ़ रहस्यों को अनावृत्त करने में सतत् संलग्न समर्पण और पुरुषार्थ की मशाल सादगी और सरलता से ओतप्रोत स्वामी विवेकानन्द का समग्र जीवन स्वयं एक प्रयोगशाला था।  स्वामी विवेकानन्द
www.deshbandhu.co.in
पूरी स्टोरी पढ़ें »