शहरी भारतीय हर हाल में ओलंपिक होते देखना चाहते हैं: सर्वे

 शहरी भारतीय हर हाल में ओलंपिक होते देखना चाहते हैं: सर्वे
urban-indians-always-want-to-see-olympics-happen-survey

मुंबई, 15 जुलाई (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी के कारण 23 जुलाई से शुरू हो रहे ओलंपिक खेलों के मेजबान देश जापान में राष्ट्रव्यापी आपातकाल के कारण दुनिया भर में राय बंटी हुई है कि क्या टोक्यो को खेलों की मेजबानी करनी चाहिए? दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मार्केट रिसर्च कंपनी आईपीएसओएस द्वारा किए गए एक वैश्विक सर्वेक्षण के अनुसार, दो में से केवल एक (54 प्रतिशत) भारतीय ओलंपिक के आयोजन के पक्ष में है। हालांकि, सर्वेक्षण में पाया गया कि 70 फीसदी शहरी भारतीय टोक्यो ओलंपिक में सबसे अधिक रुचि रखते हैं। 28 बाजारों में किए गए आईपीएसओएस ग्लोबल सर्वे में पाया गया कि 10 में से छह वैश्विक नागरिक और 78 प्रतिशत जापानी नागरिक अब ओलंपिक आयोजित करने का विरोध करते हैं। लेकिन तुर्की (71 फीसदी), सऊदी अरब (66 फीसदी), रूस (61 फीसदी) और पोलैंड (60 फीसदी) जैसे देश हैं जहां खेलों के लिए बड़े पैमाने पर समर्थन है। आईपीएसओएस ने गुरुवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि ओलंपिक की मेजबानी के खिलाफ देश दक्षिण कोरिया (86 फीसदी), जापान (78 फीसदी ) और अर्जेंटीना (69 फीसदी) हैं। ओलंपिक का समर्थन करने वाले शहरी आबादी वाले देशों में, दक्षिण अफ्रीका (59 फीसदी), चीन (57 फीसदी), पोलैंड (56 फीसदी) और तुर्की (56 फीसदी) ने भारत का अनुसरण किया। भारत में, आईपीएसओएस द्वारा 500 के एक नमूने का सर्वेक्षण किया गया था। सबसे कम दिलचस्पी वाले देशों में बेल्जियम (72 फीसदी), दक्षिण कोरिया (70 फीसदी), जापान (68 फीसदी), फ्रांस (68 फीसदी) और जर्मनी (67 फीसदी) शामिल हैं। हालांकि सर्वेक्षण ने निष्कर्ष निकाला कि बड़ी संख्या में लोगों ने विश्व स्तर पर इसका विरोध किया, इस तथ्य के लिए भारी समर्थन था कि ओलंपिक का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है - कम से कम 80 प्रतिशत वैश्विक नागरिकों ने इस ²ष्टिकोण का समर्थन किया जबकि 90 प्रतिशत शहरी भारतीयों और 59 प्रतिशत जापानी इस पर भी सहमत हुए। कुल मिलाकर, सर्वेक्षण में पाया गया कि शहरी भारतीय फुटबॉल (37 फीसदी), बैडमिंटन (36 फीसदी), टेनिस (28 फीसदी), एथलेटिक्स (26 फीसदी), मुक्केबाजी (17 फीसदी) और साइकिलिंग (14 फीसदी) में सबसे अधिक रुचि रखते हैं। फुटबॉल/सॉकर (30 फीसदी), एथलेटिक्स/ट्रैक एंड फील्ड (27 फीसदी), जिमनास्टिक (21 फीसदी), वॉलीबॉल (13 फीसदी), टेनिस (12 फीसदी), देखने के लिए वैश्विक नागरिक सबसे अधिक उत्सुक थे। बास्केटबाल (12 फीसदी), साइकिलिंग (10 फीसदी), मुक्केबाजी (8 फीसदी) और बैडमिंटन (6 फीसदी) का अगला नम्बर है। ओलंपिक के लिए जाने वाले एथलीटों को टीकाकरण में प्राथमिकता मिलने का भी समर्थन था, जिसमें 10 वैश्विक नागरिकों में से कम से कम सात ने इसका समर्थन किया था। --आईएएनएस जेएनएस

अन्य खबरें

No stories found.