टोक्यो पैरालंपिक खेलों के लिए पैरा एथलीटों का राष्ट्रीय शिविर शुरू

 टोक्यो पैरालंपिक खेलों के लिए पैरा एथलीटों का राष्ट्रीय शिविर शुरू
national-camp-of-para-athletes-for-tokyo-paralympic-games-begins

नई दिल्ली, 14 जुलाई (आईएएनएस)। पैरालंपिक स्वर्ण पदक विजेता भाला फेंक खिलाड़ी देवेंद्र झाझरिया और ऊंची कूद के खिलाड़ी मरियप्पन थंगावेलु सहित रिकॉर्ड संख्या में 25 पैरा-एथलीटों ने टोक्यो पैरालंपिक खेलों के लिए अपनी अंतिम तैयारी शुरू कर दी है। पैरालंपिक खेलों का आयोजन टोक्यो में 24 अगस्त से 5 सितंबर तक होगा। पैरा-एथलीटों के लिए राष्ट्रीय कोचिंग शिविर देश भर के विभिन्न भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) केंद्रों पर शुरू हो गया है। झाझरिया साई के गांधीनगर केंद्र में प्रशिक्षण ले रहे हैं, जबकि मरियप्पन बेंगलुरु के साई साउथ सेंटर में तैयारी कर रहे हैं। पीसीआई और साई ने चार केंद्रों - सोनीपत (छह एथलीट), जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम, नई दिल्ली (10), गांधीनगर (1) और बेंगलुरु (8) में आवश्यक कोच और सहायक कर्मचारी तैनात किए हैं। मुख्य राष्ट्रीय कोच सत्यनारायण बेंगलुरु से प्रयासों का समन्वय कर रहे हैं। कोविड-19 महामारी के कारण एथलीट अपने-अपने आधार पर प्रशिक्षण ले रहे हैं, जिससे केंद्रीकृत शिविर लगाना मुश्किल हो जाता है। जिन अन्य लोगों ने अपनी अंतिम तैयारी शुरू कर दी है, उनमें भाला फेंकने वाले संदीप चौधरी, सुमित और नवदीप, योगेश कथूरिया (पुरुषों की चक्का फेंक) और सिमरन (पुरुषों की 100 मीटर धावक) शामिल हैं। पीसीआई अध्यक्ष दीपा मलिक का मानना है कि टोक्यो खेलों में इतिहास लिखा जाएगा। रियो 2016 में शॉटपुट में सिल्वर मेडल जीतने वाली दीपा ने कहा, दुनिया भारत को एथलेटिक्स के क्षेत्र में एक प्रमुख शक्ति बनते देखेगी। रियो 2016 में, सभी चार पदक एथलेटिक्स से आए थे। इस बार हम न केवल पदकों की संख्या बढ़ाने के लिए तैयार हैं, बल्कि खेलों में भारत की उपस्थिति पर भी मुहर लगाने के लिए तैयार हैं। --आईएएनएस जेएनएस

अन्य खबरें

No stories found.