किरेन रिजिजू ने की दिवंगत एमके कौशिक और रविंदर पाल सिंह के परिवारों को 5 लाख रुपये देने की घोषणा

किरेन रिजिजू ने की दिवंगत एमके कौशिक और रविंदर पाल सिंह के परिवारों को 5 लाख रुपये देने की घोषणा
kiren-rijiju-announced-a-grant-of-rs-5-lakh-to-the-families-of-the-late-mk-kaushik-and-ravinder-pal-singh

कोरोना के कारण हॉकी के दोनों दिग्गजों का हुआ था निधन नई दिल्ली, 13 मई (हि.स.)। केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने गुरुवार को मास्को ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता एमके कौशिक और रविंदर पाल सिंह, दोनों के शोक संतप्त परिवारों को वित्तीय सहायता के रूप में 5 लाख रुपये देने की घोषणा की है। दोनों हॉकी दिग्गजों का पिछले सप्ताह कोरोना के कारण निधन हो गया था। पूर्व हॉकी खिलाड़ी कौशिक और रविंदर 1980 के मास्को ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले भारतीय टीम का हिस्सा थे। रिजिजू ने ट्वीट किया,"हमने कोविड के कारण हॉकी के दो महान खिलाड़ियों को खो दिया है। एमके कौशिक जी और रविंदर पाल सिंह जी के भारतीय खेल में योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। समर्थन के एक हिस्से के रूप में, खेल मंत्रालय प्रत्येक शोक संतप्त परिवारों को 5 लाख रुपये सौंप रहा है। हम दुख की इस घड़ी में उनके साथ खड़े हैं।” भारतीय पुरुष हॉकी टीम के पूर्व सेंटर हाफ खिलाड़ी रविंदर ने कई टूर्नामेंटों में राष्ट्रीय टीम का प्रतिनिधित्व किया जिसमें कराची में चैंपियंस ट्रॉफी (1980, 1983), 1982 में मुंबई में विश्व कप, 1982 में कराची में एशिया कप और 1984 में लॉस एंजिल्स ओलंपिक शामिल है। दूसरी ओर, अर्जुन अवार्डी कौशिक ने 1990 और 2000 के दशक के दौरान पुरुष और महिला दोनों टीमों को कोचिंग दी थी। उनकी कोचिंग के तहत, भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने 1998 के बैंकॉक एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता और भारतीय महिला हॉकी टीम ने 2006 में दोहा एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता। वह 2014 में एशियाई खेलों का स्वर्ण जीतने वाली भारतीय पुरुष हॉकी टीम के सहायक कोच भी थे। भारतीय हॉकी में उनके योगदान के लिए, उन्हें 2002 में द्रोणाचार्य पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। हिन्दुस्थान समाचार/सुनील

अन्य खबरें

No stories found.