मनप्रीत और चिंगलेनसना जैसे अनुभवी खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखा : जसकरन सिंह
मनप्रीत और चिंगलेनसना जैसे अनुभवी खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखा : जसकरन सिंह
स्पोर्ट्स

मनप्रीत और चिंगलेनसना जैसे अनुभवी खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखा : जसकरन सिंह

news

बेंगलुरु,07 नवंबर (हि.स.)। भारतीय पुरुष हॉकी टीम के मिडफील्डर जसकरन सिंह ने कहा कि उन्होंने राष्ट्रीय शिविर के दौरान मनप्रीत सिंह और चिंगलेनसना सिंह कंगुजम जैसे अनुभवी खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखा है। जसकरन सिंह राष्ट्रीय टीम के लिए छह मैच खेले हैं। 26 वर्षीय जसकरन अपने खेल में बेहतर होने के लिए लगातार अपने वरिष्ठ खिलाड़ियों से बात कर रहे हैं। जसकरन ने कहा, "पिछले साल छह मैच खेलना बहुत अच्छा था। मैंने अभी अपना अंतरराष्ट्रीय करियर शुरू किया है। मनप्रीत सिंह और चिंगलेनसाना सिंह के साथ अभ्यास करना काफी अच्छा है।" उन्होंने कहा, "मैंने उनसे केवल हॉकी तकनीक के बारे में ही नहीं, बल्कि मैदान से बाहर के पहलुओं के बारे में भी बहुत कुछ सीखा है। मैं हॉकी के खेल के बारे में ज्ञान प्राप्त करने और एक खिलाड़ी के रूप में बेहतर होने के लिए अपने वरिष्ठों मनप्रीत और चिंगलेनसाना से लगातार बात करता रहता हूं। दोनों ने भारत के लिए 200 से अधिक मैच खेले हैं और उनके पास अपने अनुभवों को साझा करने के लिए बहुत कुछ है। मिडफील्डर ने कहा कि भारतीय टीम के एक बार फिर से प्रतिस्पर्धा शुरू करने से पहले वह अंतरराष्ट्रीय सर्किट में अधिक से अधिक खेलना चाहते हैं। उन्होंने कहा,"मैं निश्चित रूप से अंतरराष्ट्रीय सर्किट में अधिक एक्सपोजर देख रहा हूं। मैं इस समय छोटे लक्ष्य रखना चाहता हूं और बहुत बड़े लक्ष्यों के बारे में नहीं सोचना चाहता।" उन्होंने कहा, "जितना अधिक मैं उच्चतम स्तर पर खेलता हूं, उतना ही बेहतर होता जाऊंगा। यह मेरी क्षमताओं पर विश्वास करने के बारे में है और जब मैं नियमित आधार पर शीर्ष टीमों के खिलाफ खेलूंगा, तो मुझे अपनी क्षमताओं पर पूरा भरोसा होगा।" यह पूछे जाने पर कि उन्होंने लॉकडाउन में अपना समय कैसे बिताया, जसकरन ने कहा कि उन्हें सकारात्मक रहने का एक तरीका मिला और उन्होंने अपनी फिटनेस को बनाए रखने पर बहुत ध्यान दिया। उन्होंने कहा, "लॉकडाउन चरण सभी के लिए कठिन था, लेकिन हमने अपनी फिटनेस ड्रिल के माध्यम से सकारात्मक बने रहने का एक तरीका ढूंढ लिया। मैंने अपनी फिटनेस बनाए रखने के लिए अपनी सारी ऊर्जा लगा दी। हॉकी इंडिया के समर्थन ने इस कठिन समय में हमारी काफी मदद की है।" "हमें हॉकी इंडिया और भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) द्वारा हर चीज का ख्याल रखने से कुछ भी चिंता करने की ज़रूरत नहीं थी। हम खेल गतिविधियों के लिए पिच पर वापस आने के बारे में बहुत रोमांचित हैं। अभी, हम बस अपना सर्वश्रेष्ठ देने और सुधार करने के लिए देख रहे हैं।" हिन्दुस्थान समाचार/सुनील-hindusthansamachar.in