उस्मान ख्वाजा के भाई को फर्जी आतंकी साजिश के जुर्म में सजा
उस्मान ख्वाजा के भाई को फर्जी आतंकी साजिश के जुर्म में सजा
स्पोर्ट्स

उस्मान ख्वाजा के भाई को फर्जी आतंकी साजिश के जुर्म में सजा

news

सिडनी, 05 नवंबर (हि. स.)। ऑस्ट्रेलिया के बाएं हाथ के बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा के बड़े भाई अर्सलान तारिक ख्वाजा को फर्जी आतंकी साजिश रच कर सहकर्मी को फंसाने के आरोप में गुरुवार को जेल भेज दिया गया। उस्मान के भाई ने अपना जुर्म कुबूल करते हुए कहा कि उन्होंने अगस्त 2018 में न्यू साउथ वेल्स यूनिवर्सिटी के सहकर्मी कामेर निजामदीन की नोटबुक में फर्जी बातें लिख दी थीं। अर्सलान तारिक ने इस साजिश के पीछे की वजह बताते हुए कहा कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि निजामदीन उनकी एक महिला मित्र से नजदीकी बढ़ा रहे थे, जिसके बाद उन्हें ईर्ष्या होने लगी थी। बता दें कि, निजामदीन को इसके बाद गिरफ्तार किया गया था और मीडिया में उन्हें गलत तरीके से आतंकवादी घोषित कर दिया गया था, लेकिन बाद में पुलिस जांच में पता चला की उन्हे फंसाया गया है। न्यू साउथ वेल्स जिला कोर्ट में न्यायाधीश रॉबर्ट वेबर ने अब अर्सलान तारिक को दो साल और छह महीने की गैर-पैरोल अवधि के साथ चार साल और छह महीने की जेल की सजा सुनाई है। उल्लेखनीय है कि, ख्वाजा के भाई ने एक नोटबुक के कम से कम 22 पृष्ठों पर कुछ लिखा था और इसे यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों को सौंप दिया था। नोटबुक में तत्कालीन प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल और गवर्नर-जनरल के साथ-साथ पुलिस स्टेशनों पर हमला करने की सूची के अलावा मेलबर्न में बॉक्सिंग डे क्रिकेट टेस्ट मैच और अन्य स्थलों पर हमले की धमकी थी। ख्वाजा के भाई अर्सलान तारिक ने यह भी खुलासा किया कि उन्होंने एक और व्यक्ति के खिलाफ 2017 में ईर्ष्या के चलते फर्जी वीजा और आतंकवाद का आरोप लगाया था। उस्मान ख्वाजा ने इस बात पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "अपने जीवन के इस काल से पहले वह एक आदर्श नागरिक थे।" हिन्दुस्थान समाचार/दीपेश शर्मा-hindusthansamachar.in