अवसरों को छोड़कर विद्युत कंपनी में सेवा देते रहे वरिष्ठ कल्याण अधिकारी एसपी बारले

अवसरों को छोड़कर विद्युत कंपनी में सेवा देते रहे वरिष्ठ कल्याण अधिकारी एसपी बारले
senior-welfare-officer-sp-barley-continued-to-serve-in-the-power-company-leaving-opportunities

कोरबा ,29 अप्रैल (हि स) । डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ताप विद्युत गृह में पदस्थ वरिष्ठ कल्याण अधिकारी एसपी बारले 30 अप्रैल को सेवानिवृत्त हो जाएंगे। उन्होंने विद्युत मंडल एवं पावर कंपनीज में 30 वर्षों की महत्वपूर्ण सेवाएं दी हैं। श्री बारले 1990 में विद्युत मंडल में कल्याण अधिकारी के पद पर चयनित हुए थे। उनकी पहली पोस्टिंग जनवरी 1991 में मुख्य अभियंता (बिलासपुर क्षेत्र) कार्यालय के अधीन तिफरा में की गई थी। इस लंबी सेवा अवधि में श्री बारले ने 50 मुख्य अभियंताओं के साथ कार्य किया है। कल्याण अधिकारी के पद पर रहते हुए उन्होंने श्रमिक संगठनों एवं प्रबंधन के बीच हमेशा एक पुल की भूमिका निभाई हैै। कर्मचारियों से सीधा संवाद एवं उनकी समस्याओं के निराकरण के लिए वे हमेशा ही तत्पर रहे। अपनी सेवा अवधि में श्री बारले प्रशासन, मीडिया एवं औद्योगिक संबंधों को बड़े ही दायित्वों के साथ निभाया है। श्री बारले का मानना है कि अच्छा व्यवहार, समय प्रबंधन, ईमानदारी और टीम वर्क उनकी सफलता का मूल कारण है। वरिष्ठ कल्याण अधिकारी एसपी बारले बताते हैं कि औद्योगिक संबंध विभाग में पदस्थ वरिष्ठ श्री आंवले, आरडी सिंह एवं एके कटकवार, प्रवीण दत्त त्रिपाठी एवं आईआर विभाग से मिले मार्गदर्शन से उन्हें अपने जीवन में कर्तव्य निर्वहन में बड़ा सहयोग मिला है।श्री बारले आभार प्रकट करते हुए कहते हैं कि वरिष्ठजनों से मिले सहयोग के कारण ही वे पावर कंपनीज के कार्यों को बड़ी सहजता से पूरा कर पाए हैं। वर्ष 2006 में श्री बारले को वरिष्ठ कल्याण अधिकारी के पद पर पदोन्नति मिली। श्री बारले बताते हैं कि उन्हें जिन मुख्य अभियंताओं के साथ कार्य करने का अवसर मिला उनमें से अधिकांश विद्युत मंडल के निदेशक मंडल एवं उच्च पदों पर कार्य किया है। अपने सेवाकाल में मिले सहयोग के लिए उन्होंने अधिकारी, कर्मचारी, श्रमिकों एवं शुभचिंतकों के प्रति आभार जताया है। किसान के बेटे ने भिलाई इस्पात संयंत्र में भी दी है सेवा – बहुमुखी प्रतिभा के धनी श्री बारले की उच्च शिक्षा की वजह से उन्हें कई संस्थानों में सेवा का अवसर मिला। उन्होंने स्थानीय निधि संपरीक्षा में आॅडिटर के पद पर दो साल, भिलाई इस्पात संयंत्र में कार्यक्रम सहायक के पद पर सात साल की सेवाएं भी दी हैं। वर्ष 1994 में राज्य लोक सेवा आयोग भर्ती परीक्षा में उनका चयन महिला एवं बाल विकास अधिकारी के पद पर हुआ था लेकिन उन्होंने विद्युत मंडल की सेवा को सर्वोपरि मानते हुए यहां कर्तव्य में डटे रहे। हिन्दुस्थान समाचार / हरीश तिवारी