साहित्य आजतक के मंच पर नाटक गालिब इन देल्ही का मंचन 16 नवंबर 2018 Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

साहित्य आजतक के मंच पर नाटक, गालिब इन देल्ही का मंचन 16 नवंबर 2018

साहित्य आजतक के मंच पर नाटक, गालिब इन देल्ही का मंचन 16 नवंबर 2018

मिर्जा ग़ालिब को कौन नहीं जानता गालिब किसी एक रंग एक एहसास से बंधे शख्स नहीं उनकी शायरी इंसानियत की खुशबू से सराबोर हैपर क्या होता गर गालिब इन दिनों दिल्ली आ जाते 'होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे’ मिर्ज़ा ग़ालिब ने ये शेर चाहे जिस वजह से कहा हो पर नाटक 'गालिब इन देल्ही' उनके ऐसे ही शेर ... क्लिक »

aajtak.intoday.in