पं. रविशंकर शुक्ल व पूर्व केन्द्रीय मंत्री शहीद पं. विद्याचरण शुक्ल की जयंती मनायी गई
पं. रविशंकर शुक्ल व पूर्व केन्द्रीय मंत्री शहीद पं. विद्याचरण शुक्ल की जयंती मनायी गई

पं. रविशंकर शुक्ल व पूर्व केन्द्रीय मंत्री शहीद पं. विद्याचरण शुक्ल की जयंती मनायी गई

कोरबा 02 अगस्त (हि.स.) जिला कांग्रेस कार्यालय टी.पी. नगर कोरबा में आज अविभाजित मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री पं. रविशंकर शुक्ल की 143वीं जयंती एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री शहीद पं. विद्याचरण शुक्ल की 93वीं जयंती कार्यक्रम मनाया गया। सर्वप्रथम दोनों नेताओं के तैलचित्र पर माल्यार्पण किया गया एवं पुष्पगुच्छ अर्पित कर उन्हे याद किया गया। महापौर राजकिशोर प्रसाद ने पं. रविशंकर शुक्ल एवं पं. विद्याचरण शुक्ल के जीवनी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की उन्नती एवं सामाजिक सद्भावना के लिए पं. शुक्ल की यादों को चिरकाल तक स्थाई बनाये रखने के लिए उनकी स्मृति में छत्तीसगढ़ शासन ने पं. रविशंकर शुक्ल सम्मान की स्थापना की है। पं. शुक्ल एक कर्मठ राजनेता, महान शिक्षा विद तथा दूरदर्शी थे। श्री प्रसाद जी आगे कहा कि राजनीति के शिखर पर सालों साल का बिज रहने वाले विद्या भैय्या कई मायनों मे देश और दुनिया में छत्तीसगढ़ के पहचान थे। कांग्रेस शहर जिला अध्यक्ष सपना चौहान ने बताया कि पं. विद्याचरण शुक्ल ने सन् 1957 में कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ते हुए अपने प्रतिद्वन्दी को भारी अंतर से हराया और भारतीय संसद में सबसे युवा सांसद बने। इस सीट से वे 9 बार चुनाव जीते इंदिरा गांधी के मंत्री मंडल 1966 में केबिनेट मंत्री बने और अपने लंबे राजनीति करियर में उन्होने संचार, गृह, रक्षा, वित्त, योजना, विदेश संसदीय आदि मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली। कोरबा ब्लाॅक अध्यक्ष व एमआईसी सदस्य संतोष राठौर ने विद्याचरण शुक्ल को याद करते हुए कहा कि विद्या भैय्या के पास जो जरूरत मंद पहुंचा वह कभी खाली नहीं लौटा। विद्या भैय्या हमेशा कहा करते थे जीवन में हमेशा खुश रहो और अपने शरीर के अनुरूप भोजन करें यही जीवन है। जयंती कार्यक्रम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मनाया गया। इस अवसर पर जिला महिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्रीमती कुसुम द्विवेदी, कुर्मी समाज अध्यक्ष रामकुमार वर्मा, मनकराम साहू, सुरेन्द्र कुमार कश्यप उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / हरीश तिवारी-hindusthansamachar.in

Last updated