raipur-instructions-to-review-investigation-of-shanti-kashyap-copying-case
raipur-instructions-to-review-investigation-of-shanti-kashyap-copying-case
news

रायपुर : शांति कश्यप नकल प्रकरण की जांच की समीक्षा करने के निर्देश

news

पूर्व स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप की पत्नी शांति कश्यप के स्थान पर उनकी साली को पर्चा देते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया था रायपुर, 17 फरवरी (हि.स. )। भाजपा के तीसरे शासनकाल में सर्वाधिक चर्चित मामलों में से एक शांति कश्यप नकल प्रकरण की जांच की समीक्षा करने के निर्देश उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने दिए है। पटेल ने बुधवार को कहा कि यह देखा जाए कि पुलिस ने इन छह सालों में किस तरह की कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि बेशक यह बेहद गंभीर मामला है, इसकी प्रगति के बारे में जानकारी ली जाएगी तथा एक्शन भी लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि चार अगस्त 2015 को लोहण्डीगुड़ा के शासकीय हायर सेकण्डरी स्कूल में पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय की एमए (पूर्व) के अंग्रेजी की परीक्षा में तत्कालीन स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप की पत्नी शांति कश्यप के स्थान पर उनकी साली किरण मोर्या को पर्चा देते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया था। तमाम साक्ष्य होने के बाद स्थानीय पुलिस ने तत्कालीन भाजपा सरकार के दबाव में अज्ञात महिला के नाम पर अपराध पंजीबद्ध किया था। स्कूल शिक्षा मंत्री की पत्नी के स्थान पर साली को परीक्षा देते पकड़े जाने पर प्रदेश में सियासी पारा चढ़ गया था। जगदलपुर कांग्रेस ने बेहद आक्रामक तरीके से आंदोलन किया था। यह प्रदेश का अकेला ऐसा आंदोलन था, जिसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की हैसियत से भूपेश बघेल तीन बार जगदलपुर पहुंचे और कलेक्टोरेट का घेराव किया। तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने केदार कश्यप के निर्वाचन क्षेत्र नारायणपुर में मोर्चा सम्भाला था। पुलिस की ढिलाई को देखते हुए प्रदेश कांग्रेस के तत्कालीन महासचिव मलकीत सिंह गेंदू तथा दीपक बैज (वर्तमान सांसद) ने अदालत का दरवाजा भी खटखटाया और परिवाद दायर किया, परंतु इसका भी अब तक कोई नतीजा नहीं निकल पाया। माना जा रहा था कि भाजपा के सत्ताच्युत होने तथा कांग्रेस के सत्तासीन होने के बाद इस प्रकरण में निर्णायक कार्रवाई होगी। परंतु लगभग 26 महीने के कार्यकाल में कांग्रेस सरकार ने इस मामले में कोई रुचि नहीं दिखाई। बस्तर की सभी बारह विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है। इसके अलावा लोकसभा सदस्य दीपक बैज तथा राज्यसभा सदस्य फूलोदेवी नेताम हैं। मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार के रूप में राजेश तिवारी ओहदेदार हैं। बस्तर में सर्वशक्तिमान होने के बाद भी कांग्रेस के विधायकों व सांसदों की खामोशी कई तरह के सवाल खड़े कर रही है। इस पूरे प्रकरण में नारायणपुर विधायक चंदन कश्यप भी इस मुद्दे पर लगातार खामोश हैं। उनका कहना है कि यह सरकार का विषय है। उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने इस मामले में एक्शन लेने की बात कहकर मुद्दे को फिर से जिंदा कर दिया है। बिलासपुर में पं. सुन्दरलाल शर्मा विश्वविद्यालय दीक्षांत समारोह में पहुंचे मंत्री उमेश पटेल ने कहा कि अब मुन्ना-मुन्नी का खेल नहीं चलेगा। उच्च शिक्षामंत्री ने बताया कि प्रकरण काफी पुराना है। जांच हुई थी, पता लगाएंगे कि क्या कुछ अभी तक किया गया है। मामला गंभीर है, हम जरूर पता लगाएंगे और एक्शन भी लेंगे। हिन्दुस्थान समाचार /केशव शर्मा-hindusthansamachar.in