रायपुर : एक मई से प्रस्तावित कोरोना टीकाकरण वैक्सीन की अनुपलब्धता के कारण शुरू नहीं हो पाएगा

रायपुर : एक मई से प्रस्तावित कोरोना टीकाकरण वैक्सीन की अनुपलब्धता के कारण शुरू नहीं हो पाएगा
raipur-corona-vaccination-proposed-from-may-1-will-not-start-due-to-non-availability-of-vaccine

रायपुर, 28 अप्रैल (हि.स.)। छत्तीसगढ़ में एक मई से प्रस्तावित कोरोना टीकाकरण का तीसरा चरण वैक्सीन की अनुपलब्धता के कारण समय पर शुरू नहीं हो पाएगा। कोवैक्सिन की उत्पादक भारत बायोटेक ने सरकार को बताया है कि कंपनी जुलाई के अंतिम सप्ताह से पहले उनको टीका नहीं दे पाएगी। उधर, कोवीशील्ड की उत्पादक सीरम इंस्टीट्यूट से सरकार को अभी कोई जवाब नहीं मिला है। छत्तीसगढ़ के राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. अमर सिंह ठाकुर ने बताया कि सरकार ने दोनों कंपनियों को कोविशील्ड और कोवैक्सिन की 25-25 लाख खुराकों का आर्डर दिया था। आज कोवैक्सिन की उत्पादक भारत बायोटेक की ओर से जवाब आ गया है। उन्होंने जुलाई के अंत तक आपूर्ति की बात कही है। लेकिन अभी कोविशील्ड उत्पादक सीरम की ओर से कोई जवाब नहीं आया है। सीनियर अधिकारी कंपनी से बातचीत कर रहे हैं। जवाब आने के बाद स्पष्ट हो पाएगा कि 18 से 45 वर्ष तक के लोगों के लिए टीकाकरण का अभियान वास्तव में कब से शुरू हो पाएगा। टीकाकरण के इस चरण में 1 करोड़ 20 लाख लोगों को कोरोना का टीका लगाने का अनुमानित लक्ष्य है। अभियान के इस चरण में नि:शुल्क टीकाकरण का पूरा खर्च राज्य सरकार को उठाना है। अनुमान लगाया गया है कि इस पर एक हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। डॉ. अमर सिंह ठाकुर ने बताया, 01 मई के बाद भी 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण अभियान जारी रहेगा। उन्होंने बताया, सरकार के पास अभी टीके की 2 लाख खुराक बची है। केंद्र सरकार से 2 लाख खुराकों की एक खेप कल मिलने वाली है। छत्तीसगढ़ में अभी तक 54 लाख 44 हजार 144 लोगों को कोरोना का टीका लग चुका है। इनमें से 47 लाख 93 हजार 790 को पहली डोज लगी है और 6 लाख 50 हजार 354 को दूसरी डोज। आज 2.30 बजे तक केवल 7 हजार 629 लोगों को टीका लगा था। हिन्दुस्थान समाचार /केशव शर्मा