रायपुर:ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन मरीजों की पूरी सावधानी के साथ सतत मॉनिटरिंग की जाए:मुख्यमंत्री

रायपुर:ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन मरीजों की पूरी सावधानी के साथ सतत मॉनिटरिंग की जाए:मुख्यमंत्री
raipur-continuous-monitoring-of-home-isolation-patients-in-rural-areas-should-be-done-with-full-caution-chief-minister

9 जिलों के 18 विकासखण्डों में कोरोना संक्रमण की समीक्षा रायपुर,7 मई (हि.स.)। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन मरीजों की पूरी सावधानी के साथ सतत मॉनिटरिंग की जाए। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से यह भी कहा कि वे समय-समय पर निजी अस्पतालों की जांच करें और यह सुनिश्चित करें कि कोरोना मरीजों के इलाज में निजी अस्पताल निर्धारित दर से ज्यादा राशि की वसूली न करें। मरीजों को डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य योजना और आयुष्मान योजना का लाभ भी दिलाएं। मुख्यमंत्री आज यहां अपने रायपुर निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल बैठक में रायपुर, दुर्ग और सरगुजा संभाग के 9 जिलों के 18 विकासखण्डों में कोरोना संक्रमण की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में 9 जिलों रायपुर संभाग के रायपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, महासमुंद और धमतरी जिले, सरगुजा संभाग के कोरिया जिले और दुर्ग संभाग के दुर्ग, बालोद और बेमेतरा जिले के 18 विकासखण्डों में पदस्थ अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, राजस्व मंत्री जय सिंह अग्रवाल भी बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शामिल हुए। मुख्यमंत्री निवास में मुख्य सचिव अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी उपस्थित थे। समीक्षा बैठक में ग्रामीण क्षेत्रों के अधिकारियों ने बताया कि इन क्षेत्रों के अस्पतालों में सामान्य बेड के साथ-साथ ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड खाली हैं। दवाईयों का भी पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध है। मितानिनों के माध्यम से कोरोना के लक्षण वाले मरीजों को दवाई किट का वितरण कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में झोला छाप डॉक्टरों के मरीजों और उनके मरीजों के इलाज की जानकारी क्षेत्र के चिकित्सा अधिकारी के पास उपलब्ध हो, ताकि मरीजों का कोविड प्रोटोकॉल के तहत सही इलाज सुनिश्चित किया जा सके। मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि ऐसे क्षेत्र जहां खदानें संचालित हो रही हैं वहां यह सुनिश्चित किया जाए कि कोरोना गाइडलाइन का कड़ाई से पालन हो। जिससे लोग संक्रमित न हो। श्रमिकों की रोजी-रोटी भी चलती रहे। श्रमिकों की जांच कर संक्रमण होने पर उनका इलाज किया जाए। बेमेतरा और बिलाईगढ़ के अधिकारियों ने बताया कि 20 से 40 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों में संक्रमण बढ़ रहा है। स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव ने कहा कि 45 से अधिक आयु वर्ग के जिन लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाई जा चुकी है उन्हें चिन्हांकित कर उन्हें दूसरी डोज लगवाने के लिए प्रेरित करें। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू की गई व्यवस्थाओं के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं।राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश में दवाईयों, ऑक्सीजन या बेड की कमी नहीं है। दुर्ग ग्रामीण क्षेत्र के अधिकारियों ने बताया कि वे लोग कंटेनमेंट जोन में हर दूसरे दिन टीम भेजकर टेस्टिंग कर रहे हैं और मितानिनों के माध्यम से दवाईयों का वितरण किया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि लाउडस्पीकर के माध्यम से भी लोगों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। सभी जगहों पर पुलिस द्वारा पेट्रोलिंग की जा रही है। अंतर्राज्यीय सीमाओं और रेल्वे स्टेशनों पर टेस्टिंग का काम किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार /केशव शर्मा