raipur-29-proposals-discussed-in-corporation39s-mic-meeting
raipur-29-proposals-discussed-in-corporation39s-mic-meeting
news

रायपुर : निगम के एमआईसी की बैठक में 29 प्रस्तावों पर हुई चर्चा

news

उद्यानों में नहीं लगने दिये जायेंगे मोबाईल टावर रायपुर, 27 फरवरी (हि.स.)। महापौर एजाज ढेबर ने शनिवार को रायपुर नगर निगम की मेयर इन काउंसिल की बैठक ली। बैठक में 29 मुद्दों पर चर्चा की गई। जिसमें ओसीएम चौक से कोतवाली चौक तक के मार्ग का नामकरण स्व. इंदरचंद धाडीवाल के नाम से करने पर चर्चा कर प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई। रायपुर में उचित जगह पर मदर टेरेसा की प्रतिमा लगाने की स्वीकृति दी गई। तेलीबांधा थाने के पास स्थित नवनिर्मित होने जा रहे उद्यान में संविधान की भव्य पुस्तक व उद्देषिका स्थापित करने की स्वीकृति दी गई। सिद्धार्थ चैक से पचपेड़ी नाका चैक की सड़क का नामकरण का नाम स्वतंत्रता सेनानी स्व प्यारेलाल यादव के नाम पर करने की स्वीकृति दी गई। तुलसीनगर होते हुए लोधी पारा डॉ लालवानी दवाखाना तक का नामकरण स्व. डॉ खूबचन्द बघेल के नाम पर करने की स्वीकृति दी गई। भारतमाता चैक से पहाड़ी चैक , शुक्रवारी बाजार से लेकर गुढ़ियारी पड़ाव तक का मार्ग का नामकरण गुरु घासीदास बाबा जी के नाम से मार्ग का नाम रखने स्वीकृति दी गई। मिनी माता चौक से पहाड़ी पारा चौक तक के मार्ग का नाम मिनी माता के नाम से करने की स्वीकृति दी गई। पहाड़ी चौक से डॉ आंबेडकर चौक होते हुए ओव्हर ब्रिज गोंदवारा रोड तक के मार्ग का नाम डाॅ. बाबा साहब अम्बेडकर के नाम से करने की स्वीकृति दी गई। नेताजी सुभाष स्टेडियम में नेताजी की प्रतिमा लगाने की स्वीकृति दी गई। लोहार चौक से बनिया पारा चौक तक के मार्ग का नामकरण कुंज बिहारी अग्रवाल के नाम पर करने पर स्वीकृति दी गई। टीआर गुप्ता स्थायी अधिवक्ता को 3 हजार से 10 हजार रुपए मासिक मानदेय की स्वीकृति दी गई। उद्यानों में टावर लगाने के प्रस्ताव पर महापौर ढेबर ने आपत्ति प्रकट की कि उद्यानों में सेहत बनाने के लिये लोग जाते हैं। मोबाईल टावरों के बारे में कहा जाता है कि इससे रेडिएशन का खतरा होता है। पिछले एक साल से रायपुर में कही भी नये टॉवर लगाने की स्वीकृति नहीं दी गई है। प्रस्ताव के अनुसार चर्चा में सहमति व्यक्त की गई कि सबसे पहले निगम के भवनों और सामुदायिक भवनों, डिवाइडरों में मोबाईल टावर लगवायी जाये। वहीं मोबाईल टावर उद्यानों में लगाने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया। शहर की 31 पानी टंकियों में पेंटिंग करने में करीब डेढ़ करोड़ खर्च आएगा। वहीं किसी कम्पनी को टँकी की पेंटिंग के बाद थोड़ी जगह विज्ञापन के लिए दी जाये तो कम्पनी पेंटिंग के बाद 5 साल तक पेंटिंग का मेन्टेन्स भी करेगी। साथ ही छोटे से जगह पर विज्ञापन प्रदर्षित करने का कंपनी को जगह भी दी जायेगी । इसके एवज में निगम को राजस्व की प्राप्ति होगी। इस हेतु निविदा जारी की गई थी । जिसमें 11 टंकियों के पेंटिंग का प्रस्ताव आया था। इनसे निगम को 53 लाख का राजस्व भी मिलेगा। उसका उपयोग कैसे करना है इसके लिये 7 सदस्यीय समिति गठित की गई। जिसमें समिति के अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा होंगे एवं सदस्य नागभूषण राव, श्रीकुमार मेनन, सतनाम पनाग, समीर अख्तर, रितेष त्रिपाठी, आकाश तिवारी बनाये गये है। हिन्दुस्थान समाचार/गायत्री प्रसाद