परिवार-एक-प्रयोगशाला-यदि-घरों-में-शांति-न-होगी-तो-देश-कैसे-रहेगी-अजित-मुनि |Punjab Bathinda Sangrur परिवार प्रयोगशाला घरों शांति देश मुनि Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

परिवार एक प्रयोगशाला, यदि घरों में शांति न होगी तो देश में कैसे रहेगी : अजित मुनि

परिवार एक प्रयोगशाला, यदि घरों में शांति न होगी तो देश में कैसे रहेगी : अजित मुनि

जैन स्थानक में धर्म सभा को संबोधित करते हुए संघ संचालक नरेश मुनि महाराज के आज्ञानुवर्ती प्रवचन भास्कर श्री अजित मुनि जी ने कहा कि जैन धर्म के तीर्थकर भगवान ऋषभ देव जी ने परिवार व्यवस्था बनाई। इससे पहले परिवार व्यवस्था नहीं थी। मुनि जी ने परिवार मिलन दिवस पर चर्चा करते हुए कहा कि मनुष्य सामाजिक प्राणी है। वह समाज से साथ रहता है जीता है। जो मनुष्य अपने परिवार के 4 सदस्यों को साथ शांति के साथ रह सकता है। वह समाज में भी शांति से अच्छा योगदान डालकर समाज को एक नई दिशा की ओर ले जा सकता है। परिवार एक प्रयोगशाला है। यदि घरों में शांति नहीं है तो समाज व देश में शांति कैसे रहेगी। इसके लिए
www.bhaskar.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »


www.bhaskar.com से अधिक समाचार