नोटबंदी-के-बाद-चुनावों-की-सरकारी-फंडिंग!-क्या-भारत-में-है-मुमकिन |Public Funding Elections Campaigns India Germany Italy ��������������������� ��������������� ������������������ ������������������ ������������ Hindi Latest News  

बड़ी खबरें

नोटबंदी के बाद चुनावों की सरकारी फंडिंग! क्या भारत में है मुमकिन?

नोटबंदी के बाद चुनावों की सरकारी फंडिंग! क्या भारत में है मुमकिन?

नोटबंदी के बाद पीएम नरेंद्र मोदी चुनावों की सरकारी फंडिंग पर जोर दे सकते हैं हालांकि चुनाव आयोग और लॉ कमीशन का कहना है कि अगर राजनीति में अपराधीकरण रोकने और चंदे के मामले में पार्टियों को और ज्यादा पारदर्शी बनाए बिना सरकारी फंडिंग के सीमित नतीजे आएंगे चुनाव आयोग का मानना है कि राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों की ओर से किए जाने वाले बेहिसाब खर्चे पर रोक लगाने के लिए चुनावों के लिए पूरी तरह सरकारी खर्च करने का मकसद तबतक पूरा नहीं होगा जब तक अपराधीकरण और राजनीतिक दलों को मिलने वाले धन पर रोक न लगाई जाए पीएम मोदी ने देशभर में राज्यों की विधानसभाओं और लोकसभा के चुनाव एक साथ कराने
aajtak.intoday.in
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2018. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.