सात सौ वर्षों में मां करणी के व तीन दो पहली बार बंद हुए पूनरासर हनुमानजी मंदिर दर्शन द्वार Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

सात सौ वर्षों में मां करणी के व तीन सौ दो वर्षों में पहली बार बंद हुए पूनरासर हनुमानजी मंदिर के दर्शन द्वार

सात सौ वर्षों में मां करणी के व तीन सौ दो वर्षों में पहली बार बंद हुए पूनरासर हनुमानजी मंदिर के दर्शन द्वार

सात सौ वर्षों में मां करणी के व तीन सौ दो वर्षों में पहली बार बंद हुए पूनरासर हनुमानजी मंदिर के दर्शन द्वार बीकानेर, 20 मार्च (हि.स.)। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये राज्य सरकार की हिदायतों को तरजीह देते हुए विश्व प्रसिद्ध मां करणी मंदिर के ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने भी निर्णय लेकर शुक्रवार, 20 मार्च से दोपहर बाद

मंदिर के द्वार को बंद कर दिए हैं। बीकानेर से 32 किलोमीटर दूर देशनोक स्थित श्री करणी मंदिर निजी प्रन्यास देशनोक प्रशासन द्वारा मंदिर में दर्शन की व्यवस्था पर आगामी आदेशों तक पाबंदी लगा दी गई है। साथ ही नेहडीजी मंदिर व तेमडराय मंदिर के द्वार दर्शनार्थियों के लिये बंद रहेंगे। हालांकि इन मंदिरों में नियमित पूजा की जाएगी। यह जानकारी ट्रस्ट के अध्यक्ष गिरिराज सिंह बारहठ ने देते हुए बताया कि सात सौ वर्षों में यह पहला मौका होगा कि आम श्रद्धालुओं के लिये माता के दर्शन द्वार बंद रहेंगे। उधर बीकानेर से 52 किलोमीटर दूर पूनरासर स्थित हनुमान मंदिर में 302 वर्षों के इतिहास में पहली बार पूनरासर हनुमान मंदिर दर्शन द्वार शुक्रवार से 31 मार्च 2020 तक बंद कर दिए गए हैं। मंदिर श्री पूनरासर हनुमान जी पुजारी ट्रस्ट के मंत्री महावीर बोथरा ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम प्रसारित संदेश की प्रेरणा से कोरोना महामारी को देखते हुए ट्रस्ट ने दर्शकों की व्यवस्था (निज मंदिर एवं खेजड़ी मंदिर) में श्रद्धालुओं के दर्शनों की व्यवस्था 31 मार्च तक बंद रहेगी। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/संदीप
... क्लिक »

hindusthansamachar.in