यू.टी. का दर्जा मिलने के उपरांत केंद्र द्वारा जम्मू कश्मीर के लोगों का हक छीना जा रहा है: मंगोत्रा

यू.टी. का दर्जा मिलने के उपरांत केंद्र द्वारा जम्मू कश्मीर के लोगों का हक छीना जा रहा है: मंगोत्रा
यू.टी. का दर्जा मिलने के उपरांत केंद्र द्वारा जम्मू कश्मीर के लोगों का हक छीना जा रहा है: मंगोत्रा

उधमपुर, 1 जून (हि.स.)। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुमित मंगोत्रा ने एक प्रैस वार्ता के दौरान केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जब से जम्मू कश्मीर प्रदेश को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है, तब से लगातार केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर की जनता के हक उनसे छीनने का प्रयास किया जा रहा है। जिससे लोगों में केंद्र सरकार व भाजपा नेताओं के प्रति काफी रोष व्याप्त हो गया है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोगों को यू.टी. का दर्जा दिए जाने के बाद केंद्र में भाजपा शासित सरकार द्वारा सबसे पहला तौहफा नई गाड़ी खरीदने पर 9 प्रतिशत टैक्स लगाने के रूप में दिया। 1 तारीख से पैट्रोल के दामों में 5 रूपए प्रति लीटर सरचार्ज लगाकर और डीजल पर 1.50 रूपए सरचार्ज लगाकर उन्होंने कहीं ना कहीं जम्मू-कश्मीर की जनता को फिर से दबाने का प्रयास किया है, क्योंकि एकदम से पैट्रोल व डीजल के दामों में इतनी ज्यादा वृद्धि से हर चीज महंगी होगी। पहले से ही जम्मू-कश्मीर की जनता पिछले 10 महीनों से छोटे व्यापारियों, गरीब जनता और मध्यम वर्गीय लोग जम्मू कश्मीर के हालात ठीक ना होने के कारण आर्थिक परेशानियों का सामना कर रहे हैं। मंगोत्रा का कहना था कि सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में कभी इंटरनैट सेवा पर पाबंदी लगा देना और अब पिछले कई महीनों से 4जी से 2जी कर दिया, जिसके कारण छात्र वर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। उनका कहना था कि जम्मू कश्मीर के भाजपा नेता जो बड़ी-बड़ी बातें करते थे कि टोल हम जम्मू-कश्मीर में नहीं लगने देंगे और जो पुराने टोल हैं उनमें भी रेट की बढ़ौतरी वापस की जाएगी लेकिन जम्मू में एक के बाद एक नया टोल प्लाजा स्थापित करके भाजपा ने यह साबित कर दिया कि भाजपा जम्मू के लोगों के हित की पार्टी नहीं है। वहीं केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए एक और तौहफा दिया गया, जिसमें यह सुनने में आया है कि जम्मू कश्मीर का बिजली विभाग प्राइवेट कर दिया जाएगा। यह करने से सिर्फ प्राइवेट कंपनी व सरकार को फायदा जरूर मिलेगा लेकिन आम आदमी से मनमर्जी के बिजली का किराया वसूला जाएगा, जिससे कहीं ना कहीं आम आदमी को आने वाले दिनों में एक और नई मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है। वहीं सुमित मंगोत्रा का कहना था कि केंद्र सरकार द्वारा सबसे बड़ा मजाक जम्मू कश्मीर के लोगों के साथ यह किया गया कि अब जम्मू कश्मीर के लोगों को डोमिसाइल सर्टिफिकेट बनाने के लिए लंबी-लंबी कतारों में लगना पड़ेगा और राज्य के पढ़े-लिखे छात्र-छात्राओं के सरकारी नौकरियों का हक बाहरी राज्यों के लोगों में भी बांटा जाएगा। उन्होंने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि केंद्र सरकार एक के बाद एक जम्मू कश्मीर के लोगों को गिफ्ट की शक्ल में उनका हक छीनना बंद करें। हिन्दुस्थान समाचार/रमेश/बलवान -------------hindusthansamachar.in