प्रकृति प्रेम कूट कर भरा है आदिवासी समाज में सुश्री उईके  Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

प्रकृति प्रेम कूट-कूट कर भरा है आदिवासी समाज में:- सुश्री उईके 

प्रकृति प्रेम कूट-कूट कर भरा है आदिवासी समाज में:- सुश्री उईके 

बिलासपुर । आदिवासी समाज प्रकृति की पूजा करते हैं। पेड़-पौधे उनके देवता हैं। उनकी हर गतिविधि में प्रकृति की छाप दिखती है। उनके कारण ही जंगल बचा है। प्रकृति के साथ संतुलन बनाने के लिये आदिवासी विभिन्न पर्व मनाते हैं। यह किसी समाज में नहीं होता। प्रकृति प्रेम आदिवासी समाज में कूट-कूटकर भरा ... क्लिक »

www.bawander.com

अन्य सम्बन्धित समाचार