योग दिवसः सेवा भारती असम में 20 हजार परिवारों को कराएगा योग का अभ्यास

योग दिवसः सेवा भारती असम में 20 हजार परिवारों को कराएगा योग का अभ्यास
yoga-day-sewa-bharati-will-make-20-thousand-families-practice-yoga-in-assam

गुवाहाटी, 20 जून (हि.स.)। विश्व भर में 21 जून को आयोजित होने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सामाजिक संगठन सेवा भारती, पूर्वांचल के योग विभाग ने असम के 20 हजार से अधिक परिवारों को योग से जोड़ने का व्यापक कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की है। सेवा भारती, पूर्वांचल असम क्षेत्र के सांगठनिक सचिव सुरेंद्र तालखेदकर ने संगठन के विशाल कार्यक्रम के बारे में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर रविवार को बताया कि योग लोगों के जीवन में 'नमक' जितना जरूरी है। योग वास्तव में मुफ्त जीवन बीमा है इसलिए योग को जीवन के अभिन्न अंग के रूप में स्वीकार करने के लिए समाज के हर व्यक्ति को जोड़ने के लिए यह योजना शुरू की गयी है। तालखेदकर ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य न केवल शहरी क्षेत्र बल्कि, राज्य के हर ग्रामीण क्षेत्र में योग का वातावरण तैयार करना है। इस दौरान सेवा भारती, पूर्वांचल के उत्तर असम क्षेत्र के योग प्रमुख अरूपज्योति दास ने कहा कि वे और संगठन के संबंधित कार्यकर्ता इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए असम के धुबरी से सदिया तक जुटेंगे। इस संदर्भ में अरूपज्योति ने कहा कि वर्तमान कोरोना महामारी से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग का कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने सभी से अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए योग से जुड़ने का आग्रह किया। अरूपज्योति ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए असम के 20 हजार से अधिक परिवारों को योग में शामिल करने की योजना बनायी गयी है। जहां पर वीडियो कांफ्रेंस की व्यवस्था नहीं है वहां सेवा भारती, पूर्वांचल के योग प्रमुख योगाभ्यास कराएंगे। उन्होंने कहा कि संगठन का यह प्रयास पूरी तरह से सफल होगा। साथ ही कहा कि 20 हजार परिवार प्रतिदिन योगाभ्यास करें इसके लिए लगातार प्रयास किये जाएंगे। उल्लेखनीय है कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मद्देनजर राज्य के मुख्यमंत्री डॉ हिमंत बिस्व सरमा से लेकर लगभग सभी मंत्री, विधायक, विभिन्न संगठन व केंद्र व राज्य सरकार के विभिन्न एजेंसियों की ओर से भी कई तरह से कार्यक्रम आयोजित किये जाने की जानकारी मिली है। हिन्दुस्थान समाचार / अरविंद

अन्य खबरें

No stories found.