मप्र में काबू में आते कोरोना के बीच तीसरी लहर की चिंता

 मप्र में काबू में आते कोरोना के बीच तीसरी लहर की चिंता
worries-of-third-wave-among-corona-coming-under-control-in-mp

भोपाल, 28 मई (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना के संक्रमण की रफ्तार को काफी हद तक रोकने में मिल रही सफलता के बीच कोरोना कर्फ्यू में एक जून से ढील देने की कवायद तेज हो चली है, मगर सरकार के सामने सबसे बड़ी चिंता कोरोना की तीसरी लहर की है, यही कारण है कि आमजनों से कोरोना की गाइड लाईन पर अमल की गुजारिश की जा रही है। राज्य में एक दिन में कोरोना के नए मामले आने का आंकड़ा दो हजार से नीचे आ गया है। इतना ही नहीं इंदौर और भोपाल के अलावा अन्य स्थानों पर सौ से कम मरीज सामने आए हैं। साप्ताहिक पॉजिटिविट दर चार प्रतिशत हो गई है। इसके अलावा पॉजिटिव मरीजों की संख्या 40 हजार से नीचे है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना नियंत्रण का मूलमंत्र है जनता की भागीदारी। गांव, कस्बों और शहरों के क्राइसिस मैनेजमेंट समूह निरंतर सक्रिय रूप से कार्य करें। प्रदेश की 22 हजार 813 ग्राम पंचायतों में से 20 हजार 565 ग्राम पंचायतें कोरोना मुक्त हैं। राज्य सरकार ने एक जून से कोरोना कर्फ्यू में ढील देते हुए अनलॉक करने का मन बनाया है। साथ ही सतर्कता उसकी प्राथमिकता में है। सरकार की कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंता है। मुख्यमंत्री का कहना है कि प्रदेश में इस तरह के प्रयास किए जाएं कि कोरोना की तीसरी लहर आए ही नहीं। कोरोना की तीसरी लहर के संबंध में देश-दुनिया में अध्ययन करें। विशेषज्ञों के साथ चर्चा करें तथा उसके अनुसार पूरी तैयारी करें। स्वास्थ्य सेवाओं को निरंतर बेहतर बनाया जाए। कोरोना संक्रमण के कम होते असर के बीच सरकार अनलॉक करने की तैयारी में है। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया है कि सोमवार 31 मई को एक जून से प्रदेश में अनलॉक के लिए पुन: मंत्री समूह की बैठक में चर्चा करेंगे, इसी दिन अंतिम फैसला होगा। अनलॉक के लिए फाइनल ड्राफ्ट तैयार करने की जिम्मेदारी गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा को दी गई है। --आईएएनएस एसएनपी/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.