पश्चिम बंगाल और बिहार का सदियों पुराना रिश्ता, सोनार बांग्ला के लिए पोरिवर्तन जरूरी : तारकिशोर

पश्चिम बंगाल और बिहार का सदियों पुराना रिश्ता, सोनार बांग्ला के लिए पोरिवर्तन जरूरी : तारकिशोर
west-bengal-and-bihar39s-centuries-old-relationship-sonar-bangla-needs-change-tarkishore

सिलीगुड़ी, 14 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में प्रचार के लिए पहुंचे बिहार के उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कहा है कि बिहार और बंगाल का सदियों पुराना रिश्ता रहा और यहां जिस तरह से भाजपा की जनसभाओं में लोग जुट रहे हैं, वह परिवर्तन का संकेत है। वह मंगलवार देर शाम पश्चिम बंगाल के चुनावी दौरे पर सिलीगुड़ी पहुंचे, जहां उनका भव्य नागरिक अभिनंदन किया गया। बुधवार को उन्होंने सिलीगुड़ी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कई चुनावी सभाएं की, जिसमें उन्होंने लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि सोनार बांग्ला के लिए ममता दीदी का जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि ममता दीदी ने 10 वर्षों से पश्चिम बंगाल की जनता के साथ छल और धोखा किया है। भारत सरकार की कई योजनाओं जैसे- आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना जैसी अनेक कल्याणकारी योजनाओं का लाभ यहां के लोगों को मिलने नहीं दिया। बंगाल के लोग अब दीदी के सिंडिकेट एवं तोलाबाजों को पहचान चुके हैं। बंगाल में अब तक हुए चुनाव में लोगों का उत्साह बताता है कि बंगाल की जनता ने पोरिवर्तन का मन बना लिया है। उन्होंने कहा कि बिहार में हमारी सरकार ने मजबूती के साथ आत्मनिर्भर बिहार बनाने के संकल्प को पूरा करने के लिए काम शुरू किया है। हम चाहते हैं कि विकास की वैसी ही लहर बंगाल के अंदर भी आए। व्यवसायियों का आह्वान करते हुए कहा कि देश की बेहतरी और पश्चिम बंगाल की चतुर्दिक उन्नति के लिए एकजुट होकर वोट देने की जरूरत है। उन्होंने सिलीगुड़ी विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार शंकर घोष को इस क्षेत्र का गौरव बताते हुए कहा कि उन्हें जीताना जरूरी है। उन्होंने इस अवसर पर सिलीगुड़ी के व्यवसायियों को अपने व्यापार के विस्तार हेतु बिहार आने का निमंत्रण देते हुए कहा कि आप बिहार के अंदर आकर अपने व्यवसाय का विस्तारीकरण करें, बिहार सरकार आपको हर कदम पर मदद करने के लिए तैयार है। हिन्दुस्थान समाचार / ओम प्रकाश