कोविड के कारण शादियां हो रही हैं स्थगित
weddings-are-getting-postponed-due-to-kovid

कोविड के कारण शादियां हो रही हैं स्थगित

कोलकाता, 20 जून (आईएएनएस)। एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करने वाले आईटी कर्मचारी सुदीप साहा की इस साल मई में एक निर्माण कंपनी में काम करने वाले सिविल इंजीनियर सेजुति साहा से शादी होने वाली थी। लेकिन 20 अप्रैल को सुदीप पहले कोरोना की चपेट में आए और इसके एक हफ्ते बाद सेंजुती भी कोरोना की जांच में पॉजिटिव पाई गईं। ऐसे में जाहिर सी बात है उन्हें अपनी शादी टालनी पड़ी। अब उनकी शादी दिसंबर में होगी। दक्षिण कोलकाता निवासी सुदीप ने कहा कि हमने मेहमानों की संख्या 50 से कम रखते हुए एक सिंपल शादी की योजना बनाई थी। सारी तैयारियां हो गई थीं, लेकिन हम दोनों कोविड पॉजिटिव आ गए। मेरे परिवार के कुछ सदस्य भी संक्रमित हुए थे और इसलिए हमें अपनी शादी स्थगित करनी पड़ी। वर्तमान में स्थिति अनुकूल नहीं है और इसलिए हमें दिसंबर तक इंतजार करना होगा। उम्मीद है कि तब तक महामारी की स्थिति में सुधार होगा। सुदीप और सेजुती के अलावा महामारी की दूसरी लहर ने कोलकाता के कई जोड़ों को अपनी शादियों को या तो स्थगित करने या रद्द करने के लिए मजबूर किया है। पश्चिम बंगाल के विवाह रजिस्ट्रार के कार्यालय में पंजीकृत विवाहों की संख्या में अप्रैल के दूसरे सप्ताह से तेजी से गिरावट देखी गई है। जहां सुदीप और सेजुती ने मजबूरी के कारण अपनी शादी स्थगित कर दी, वहीं कई अन्य जोड़ों ने अपनी शादी में देरी करने का फैसला किया ताकि वे दोस्तों और परिवार को शादी में शामिल कर सके। सुभाषिस चटर्जी ने कहा कि वर्तमान में केवल 50 लोगों को आमंत्रित कर सकते हैं। मैं एक बार शादी करूंगा और इसलिए मैं इस दिन को यादगार तरीके से मनाना चाहता हूं। मैंने अपनी शादी स्थगित करने और दिसंबर या जनवरी में शादी करने का फैसला किया। उम्मीद है कि तब तक चीजें सामान्य हो जाएंगी। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, फरवरी के अंत से नवंबर 2020 और फरवरी 2021 के बीच पंजीकृत शादियों का लगभग 10 प्रतिशत ही पंजीकरण हुआ है। जबकि मैरिज रजिस्ट्रार के कार्यालय ने 1 नवंबर, 2020 से 30 मार्च के बीच 95,000 विवाहों के लिए या तो पंजीकरण कराया है या आवेदन प्राप्त किए हैं, मई की शुरूआत से केवल 3,000 शादियां हुई हैं। जून में तो स्थिति और भी खराब है। आवेदन शादी से कम से कम एक महीने पहले दाखिल करना होगा। विवाह के रजिस्ट्रार जनरल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अप्रैल के दूसरे सप्ताह से जब से मामलों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है, पूरे राज्य में पंजीकरण में बड़ी गिरावट आई है। शादियां टालने के पीछे और भी कई कारण हैं। एक मैरिज रजिस्ट्रार ने कहा कि एक डॉक्टर जोड़े ने मई के अंतिम सप्ताह में अपनी शादी रद्द कर दी क्योंकि वे अपने माता पिता और दादा दादी को खतरे में नहीं डालना चाहते थे। विवाह अधिकारियों के अनुसार, जिनके लिए स्थगन कोई विकल्प नहीं है, वे ही अब शादी कर रहे हैं। --आईएएनएस एमएसबी/एएसएन

Related Stories

No stories found.