update-one-engineer-of-the-hijacked-oil-company-reached-home-doubt-over-the-other
update-one-engineer-of-the-hijacked-oil-company-reached-home-doubt-over-the-other
देश

(अपडेट) अपहृत तेल कंपनी का एक अभियंता पहुंचा घर, दूसरे को लेकर संशय

news

इटानगर, 03 अप्रैल (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश से गत पिछले साल 21 दिसम्बर को प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन उल्फा (स्वाधीन) द्वारा अपहृत क्वीपो कंपनी के दो अभियंताओं में से एक प्रणव कुमार गोगोई को प्रदेश पुलिस ने अपनी हिफाजत में ले लिया है। जबकि, दूसरे अभियंता रामकुमार के संबंध में पुलिस गोलमोल जवाब दे रही है। हालांकि शुरुआत में पुलिस के अधिकारियों ने दोनों अभियंताओं के उग्रवादियों द्वारा छोड़े जाने की बात कही थी, लेकिन अब दूसरे के बारे में पुख्ता तौर पर कुछ भी नहीं बता रही है। इसके चलते यह आशंका बढ़ रही है कि राम कुमार को अभी तक नहीं छोड़ा गया है। चांग्लांग पुलिस इस संबंध में कोई भी जवाब नहीं दे रही है। तीन माह से अधिक समय के बाद प्रणव गोगोई को शनिवार को लगभग दो बजे चांग्लांग पुलिस ने भारत-म्यांमार सीमा क्षेत्र के लोगंबी गांव से खोज निकाला है। सूत्रों के अनुसार प्रणव को म्यांमार से भारतीय क्षेत्र में प्रवेश करते समय सीमा पर तैनात भारतीय सेना के जवानों ने पकड़कर चांग्लांग पुलिस को सौंपा दिया था। पुलिस ने गोगोइ को पूछताछ और कानूनी कार्रवाई के बाद उनके परिवार के पास भेज दिया है। वहीं दूसरी ओर राम कुमार के बारे में फिलहाल पुलिस कुछ भी बोलने से बच रही है। इस संबंध में जब तक आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा जाता तब तक राम कुमार की रिहाई को लेकर संदेह बरकरार है। हिन्दुस्थान समाचार /तागू/ अरविंद