Update: Nadda said in Bengal: BJP will come, Mamta will go
Update: Nadda said in Bengal: BJP will come, Mamta will go
देश

अपडेट : बंगाल में बोले नड्डा : आएगी भाजपा, जाएंगी ममता

news

-ममता ने तानाशाही से केवल तुष्टीकरण किया है बर्दवान, 09 जनवरी (हि.स.)। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले राज्य की सत्ता पर आरूढ़ होने की रणनीति के साथ आगे बढ़ रही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जोरदार प्रहार किया है। बर्दवान जिले में कृषक सुरक्षा ग्राम सभा में उमड़े लोगों के हुजूम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस मैदान में जितनी भारी संख्या में लोगों की भीड़ एकत्रित हुई है, वह ममता बनर्जी को बड़ा संकेत दे रही है। उन्होंने कहा, "हम बंगाल में सुशासन लाएंगे।" ममता बनर्जी पर तुष्टीकरण का आरोप लगाते हुए जेपी नड्डा ने कहा, ममता जी बोलती थीं कि हम बंगाल में मां, माटी, मानुष के लिए काम करेंगे लेकिन वास्तविकता में ममता सरकार ने तोलाबाजी, तुष्टिकरण और तानाशाही के लिए काम किया है।" उन्होंने कहा, 'इस जनसभा के लोग साबित कर रहे हैं कि ममता दीदी का जाना अब निश्चित है और भाजपा सरकार का आना निश्चित है। पश्चिम बंगाल में हम केंद्र में एक किसान सम्मान कोष लॉन्च करेंगे। भाजपा किसानों के साथ मिलकर बदलाव लाएगी। बंगाल की जनता भाजपा को चाहती है। जब हम सत्ता में आएंगे तो किसानों का विकास होगा।' नड्डा ने मुख्यमंत्री ममता व उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी पर निशाना साधा और मोदी सरकार के महत्वपूर्ण फैसलों के बारे में जनता को अवगत कराया। उन्होंने कहा, "मुझे आज यहां आकर अत्यंत हर्ष हो रहा है, जहां स्वामी विवेकानंद का लालन-पालन हुआ। गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर ने यहां देश को नई दृष्टि दी। श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने एक देश-एक विधान के लिए अपनी जान दे दी। मैं उस मंदिर में भी गया, जहां चैतन्य महाप्रभु ने दीक्षा ली थी। आज जब मैं आ रहा था तो देखा कि किस तरह से बड़ी संख्या में आप लोग आए। ये दिखाता है कि ममता का जाना निश्चित है और भाजपा का आना तय है। तालियों की गड़गड़ाहट बताती है कि बंगाल की जनता ने भाजपा के स्वागत का मन बना लिया है। आज से लेकर 24 तारीख तक कार्यकर्ता 40 हजार ग्राम पंचायतों में जाकर सौगंध खाएंगे कि किसानों की लड़ाई भाजपा का कार्यकर्ता लड़ेगा। उन्होंने कहा, "जिस गर्मजोशी से आप लोगों ने मेरा स्वागत किया है, उससे पता चलता है कि आपने तय किया है कि ममता सरकार को बाहर का दरवाजा दिखाया जाएगा और भाजपा बंगाल में सरकार बनाएगी। " उन्होंने कहा, 'इस सरकार में शारदा घोटला, चिटफंड घोटाला, जाने कौन-कौन सा घोटाला हुआ है। भ्रष्टाचार का बोलबाला है। अंत्येष्टि के लिए भी कटमनी ली जा रही है।' ममता हर बात में बोलती हैं- होबे न। अब भाजपा की सरकार आबे। योजना बदल देने से लोगों के मन में प्रधानमंत्री के प्रति सम्मान कम नहीं होता। मोदी जी बंगाल के विकास के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं। प्रधानमंत्री ग्रामीम सड़क योजना को बंगाल सड़क योजना नाम दे दिया गया। ममता जी कहती थीं कि हम मां, माटी, मानुष के लिए काम कर रहे हैं, लेकिन वे तो तोलाबाजी, तानाशाही और तुष्टिकरण के लिए काम कर रही हैं। उनके शासन में तो अंतिम संस्कार के लिए पैसे देने पड़ रहे हैं। सुना है कि ममता जी ने प्रधानमंत्री को किसान सम्मान निधि के लिए पत्र लिखा है। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि हमारी सरकार बनेगी और किसानों को किसान सम्मान निधि हम देंगे। ममता जी आपकी जमीन खिसक चुकी है, चिड़िया खेत चुग चुकी है। तीन कृषि कानून किसानों को आजादी देते हैं। इससे किसान खुद कॉन्ट्रैक्ट कर सकता है। 29 राज्यों में 24वें स्थान पर बंगाल का किसान है। ये काम ममता जी की सरकार ने किया है। बंगाल में पानी की कमी नहीं है, लेकिन यहां कि आधी जमीन असिंचित है। ममता की सरकार बदलने के लिए हमें एक साथ जुटना होगा। टीएमसी का मतलब तिरपाल चोर। यहां नए राजकुमार दिख रहे हैं लेकिन जनता सबका मुंहतोड़ जवाब देगी। हम गांव-गांव में किसानों के साथ भोज करके तय करेंगे कि उनके साथ जो अन्याय हुआ है, उसके खिलाफ आवाज उठाएंगे और अगली सरकार का रास्ता साफ करेंगे। ममता सरकार और यूपीए की सरकार में किसानों के लिए बजट 24 हजार करोड़ हुआ करता था, हमने इसे एक लाख करोड़ कर दिया। एमएसपी के लिए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की और इसे लागत का डेढ़ गुना कर दिया। नड्डा ने भ्रष्टाचार को लेकर तंज कसते हुए कहा कि ममता राज में अंतिम संस्कार के लिए भी कट मनी (कमीशन) देनी पड़ी रही है। कोलकाता में नवनिर्मित ईस्ट वेस्ट मेट्रो परियोजना के बारे में जिक्र करते हुए नड्डा ने कहा, "यहां ईस्ट वेस्ट मेट्रो बन रही है, जिस पर लगभग 8 हजार 575 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। पश्चिम बंगाल में 3,665 नेशनल हाइवे बने हैं। ये सब मोदी जी ने किया है।" कृषि कानूनों के जरिए देशभर के किसानों को लाभ होने का दावा करते हुए नड्डा ने कहा कि पश्चिम बंगाल की भी 17 मंडिया ई-नाम से जुड़ चुकी हैं। इन मंडियों के माध्यम से किसान अपना सामान देश के किसी भी कोने में अच्छे दाम पर बेच सकता है।" हिन्दुस्थान समाचार/ ओम प्रकाश/सुगंधी/रामानुज-hindusthansamachar.in