update-delhi-violence-maninder-was-in-contact-with-khalistan-supporters
update-delhi-violence-maninder-was-in-contact-with-khalistan-supporters
देश

(अपडेट) दिल्ली हिंसाः खालिस्तान समर्थकों के सम्पर्क में था मनिंदर

news

- पुलिस पूछताछ में हुए कई खुलासे नई दिल्ली, 17 फरवरी (हि.स.)। ट्रैक्टर रैली के दौरान 26 जनवरी को लाल किला पर हुई हिंसा के समय दोनों हाथों से तलवार लहराने वाले मोस्ट वांटेड आरोपित मनिंदर सिंह उर्फ मोनी (30) को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित के घर से पुलिस ने 4.3 फुट की वह दोनों तलवारें भी बरामद कर ली हैं, जो उसने 26 जनवरी को लालकिला पर लहराई थीं। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि लाल किला हिंसा की जानकारी उसको पहले से थी। इसी वजह से वह अपने दोस्तों के साथ दोनों तलवारें लेकर पहुंचा था। पुलिस सूत्रों का कहना है कि मनिंदर खालिस्तान समर्थकों से जुड़ा था। फिलहाल स्पेशल सेल उससे पूछताछ कर रही है। स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त पीएस कुशवाहा ने बताया कि एसीपी अत्तर सिंह, इंस्पेक्टर पवन कुमार और कर्मबीर की टीम को सूचना मिली थी कि लाल किला हिंसा का मोस्ट वांटेड सीडी-पार्क, पीतमपुरा के पास मौजूद है। पुलिस की टीम ने मंगलवार रात करीब 7.45 बजे आरोपित को दबोच लिया। पूछताछ के दौरान आरोपित ने बताया कि वह परिवार के साथ गली नंबर-9, सिंधी कालोनी, स्वरूप नगर में रहता है। वह कार एसी मैकेनिक का काम करता है। दरअसल, लाल किला हिंसा के बाद जो वीडियो सामने आए थे, उसमें आरोपित मनिंदर सिंह दोनों हाथों से तलवार लहराते हुए नजर आ रहा था। इसके अलावा वह देश-विरोधी नारेबाजी कर लोगों को हिंसा करने के लिए उकसा रहा था। उसी के बाद भीड़ में मौजूद कई लोगों ने तलवार, धारदार हथियारों, लोहे की रॉड, डंडे और अन्य हथियारों से पुलिस पर हमला किया। इसके अलावा देश की धरोहर लाल किला को भी इन लोगों ने क्षति पहुंचायी। आरोपित ने खुलासा किया कि वह फेसबुक की उन पोस्ट से काफी प्रभावित था, जिसमें कई संगठन ट्रैक्टर रैली के दौराल लाल किला जाने की बात कर रहे थे। आरोपित ने बताया कि वह लगातार सिंघु बॉर्डर पर धरने में शामिल हो रहा था। यहां किसान नेताओं के भाषणों से काफी प्रभावित हुआ। पड़ोस के छह युवकों को हिंसा के लिए उकसाया पुलिस की पूछताछ में मनिंदर ने खुलासा किया है कि उसने अपने पड़ोस में रहने वाले छह लोगों को 26 जनवरी की हिंसा के लिए उकसाया था। सभी बाइक से ट्रैक्टर रैली में सिंघु बॉर्डर पहुंचे थे। यहां से सभी मुकरबा चौक तक गए। इसी दौरान मनिंदर ने अपने घर से दो तलवारें लीं। उनकी योजना थी कि लाल किला में अंदर घुसकर तलवार को लहराना है। योजना के साथ वह अपने साथियों के संग तलवार लेकर लाल किला में घुस गया। इसके बाद वह लाल किला की प्राचीर पर पहुंचकर तलवार के साथ नाचने लगा। इसे देखकर लोग उत्साहित होकर और हंगामा करने लगे। उपद्रवियों ने पुलिस कर्मियों पर हमला करने के अलावा वहां तोड़फोड़ भी कर डाली। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर पता लगाने का प्रयास कर रही है कि उसके साथ और कौन-कौन लोग शामिल थे और क्या इसके लिए उनको किसी और ने तो निर्देश नहीं दिए थे। आरोपित घर के पास खाली प्लाट में देता है तलवार चलाने की ट्रेनिंग पुलिस की पूछताछ में आरोपित मनिंदर सिंह ने खुलासा किया है कि वह घर के पास खाली प्लाट में युवकों व बच्चों को तलवार चलाने की ट्रेनिंग देता है। यहां पर दर्जनों युवक व लड़के उससे तलवार चलाने सीखने आते हैं। पुलिस उससे पूछताछ कर पता लगाने का प्रयास कर रही है कि उसके संपर्क में कौन-कौन थे। पुलिस उसके सोशल मीडिया अकाउंट की भी जांच कर रही है। मनिंदर ने कुछ लोगों के नामों का खुलासा किया है। पुलिस उन तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। खालिस्तानी ग्रुप से जुड़े होने के मिले सबूत दिल्ली पुलिस को आरोपित के मोबाइल फोन से कई वीडियो मिले हैं। इनमें लाल किले पर तलवार लहराने वाला काफी लंबा वीडियो मिला है। इसके अलावा सिंघु बॉर्डर व दूसरी जगहों के फोटो भी मिले हैं। पुलिस सूत्रों का दावा है कि इस बात के पुख्ता सबूत मिले हैं कि आरोपित मनिंदर खालिस्तान समर्थकों के संपर्क में था। इन सबूतों को और पुख्ता किया जा रहा है। पुलिस ने उनके मोबाइल का डाटा लेकर उसे जांच के लिए लैब भी भेजा है। माना जा रहा है कि उसने मोबाइल से काफी डाटा डिलीट भी कर दिया है। उस डाटा तो हासिल करने का प्रयास किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी-hindusthansamachar.in

AD
AD