यूपीए शासन में मिटी गरीबी, मोदी राज में मंदी और आर्थिक गिरावट का दौर : चिदंबरम
यूपीए शासन में मिटी गरीबी, मोदी राज में मंदी और आर्थिक गिरावट का दौर : चिदंबरम
देश

यूपीए शासन में मिटी गरीबी, मोदी राज में मंदी और आर्थिक गिरावट का दौर : चिदंबरम

news

नई दिल्ली, 17 जुलाई (हि.स.)। वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने देश की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था को लेकर केंद्र की मोदी सरकार को घेरा है। उन्होंने कहा कि यूपीए एक और दो के दौरान देश की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत थी। उस दौर में 27 करोड़ भारतीयों को गरीबी रेखा से बाहर निकाला गया था। जबकि 2015 के बाद मोदी सरकार में आर्थिक विकास में गिरावट और मंदी का दौर है। पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम ने शुक्रवार को ट्वीट कर ऑक्सफ़ोर्ड पॉवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिशिएटिव (ओपीआचाई) के अध्ययन रिपोर्ट को साझा किया। उन्होंने कहा कि इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस सरकार ने किस तरह देश और देशवासियों को हर पक्ष से मजबूत बनाया। रिपोर्ट के अनुसार साल 2005 से 2015 के बीच 27 करोड़ भारतीयों को गरीबी से बाहर निकाला गया था। यह वह अवधि थी जब सत्ता में यूपीए शासन था। उन्होंने कहा कि यह भारत की आर्थिक वृद्धि का स्वर्णिम काल था। वहीं भाजपा सरकार को निशाने पर लेते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि 2015 के बाद से एनडीए सरकार ने क्या किया है? केवल नौ लगातार तिमाहियों के लिए आर्थिक विकास में गिरावट और 2020-21 में आसन्न मंदी का कारण बनी है। चिदंबरम ने कहा कि यूपीए के रिकॉर्ड का मजाक उड़ाने वालों को पता होना चाहिए कि अर्थशास्त्री उनकी अज्ञानता और अयोग्यता पर हंस रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/आकाश/बच्चन-hindusthansamachar.in