यूपी बोर्ड के घोषित हुए नतीजे, हाईस्कूल में 99.53 फीसद और इंटर में 97.88 प्रतिशत छात्रों को मिली सफलता

 यूपी बोर्ड के घोषित हुए नतीजे, हाईस्कूल में 99.53 फीसद और इंटर में 97.88 प्रतिशत छात्रों को मिली सफलता
up-board-results-declared-9953-percent-students-got-success-in-high-school-and-9788-percent-in-inter

लखनऊ, 31 जुलाई (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने शनिवार को वर्ष 2021 की बोर्ड परीक्षा में दसवीं और बारहवीं के नतीजे घोषित कर दिए हैं। हाई स्कूल में 99.53 प्रतिशत और इंटरमीडिएट में 97.88 प्रतिशत छात्र-छात्राएं सफल हुए हैं। हाईस्कूल बोर्ड परीक्षा में 29,96,031 परीक्षार्थियों में से 29,82,055 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। यूपी बोर्ड हाई स्कूल के परिणाम में इस साल कुल उत्तीर्ण प्रतिशत 99.53 फीसद रहा है। इस बार हाईस्कूल की परीक्षा में 29 लाख, 96 हजार 031 परीक्षार्थियों में से 29 लाख 82 हजार 55 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। वहीं, इंटरमीडिएट की परीक्षा में 16 लाख 76 हजार 916 छात्रों में से 16 लाख 68 हजार 868 छात्र उत्तीर्ण हुए हैं। इस साल राज्य में कक्षा 10वीं, 12 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए 56,06,278 उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था, जिनमें से 29,96,031 कक्षा 12वीं के छात्र हैं और 26,10247 कक्षा 10वीं के छात्र हैं। हाईस्कूल में 2982055 परीक्षार्थी उ˜तीण हुए है। जिसमें 1676916 छात्र तथा 1319115 छात्राएं हैं। जिसमें बलिकाएं 99.55 प्रतिशत अंक पाकर अव्वल रही हैं। वहीं बालक 99.52 प्रतिशत उर्त्ीण हुए हैं। 82238 परीक्षार्थियों को सामान्य प्रोन्नति दी गयी है। इसके अलावा इंटरमीडिएट में कुल 2610247 परीक्षार्थियों में से 2554813 लोग उर्त्ीण हुए है। 1474317 छात्र तथा 1135930 छात्राएं हैं। इंटर में भी बलिकाओं ने 98.40 तथा बालकों ने 97.47 प्रतिषत पास हुए हैं। 62506 परीक्षार्थियों को सामान्य प्रोन्नति दी गयी है। उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद के करीब सौ वर्ष के इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है कि बिना परीक्षा के परिणाम घोषित किया जा रहा है। इस बार प्रदेश में हाईस्कूल में 29.94 लाख व इंटर में 26.1 लाख छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने माध्यमिक शिक्षा विभाग को नए पैटर्न का परिणाम जारी करने के लिए हरी झंडी दे दी । शुक्रवार को ही सीबीएसई ने इंटर का परिणाम जारी किया है। गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के कारण इस वर्ष 10वीं 12वीं बोर्ड की परीक्षा नहीं आयोजित हो पाई। वहीं परीक्षार्थियों को स्क्रूटनी का विकल्प भी इस बार नहीं मिलेगा। बोर्ड परीक्षा परिणाम से असंतुष्ट छात्रों के लिए माध्यमिक बोर्ड की ओर से वैकल्पिक व्यवस्था की भी दी गई है। ये परीक्षार्थी परिणाम घोषित होने के बाद संबंधित विद्यालय के माध्यम से आवेदन करेंगे। हालात सामान्य पर इनकी परीक्षा कराई जाएगी। --आईएएनएस विकेटी/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.