कोरोना के कारण दुनियाभर में 67 लाख और बच्चे हो सकते हैं कुपोषण के शिकार, यूनिसेफ की चेतावनी
कोरोना के कारण दुनियाभर में 67 लाख और बच्चे हो सकते हैं कुपोषण के शिकार, यूनिसेफ की चेतावनी
देश

कोरोना के कारण दुनियाभर में 67 लाख और बच्चे हो सकते हैं कुपोषण के शिकार, यूनिसेफ की चेतावनी

news

यूनिसेफ ने चेतावनी दी है कि कोविड-19 से पड़ने वाले सामाजिक और आíथक प्रभाव के कारण इस साल विश्वभर में पांच साल से कम आयु के 67 लाख और बच्चे कुपोषण संबंधी खतरनाक समस्या के शिकार हो सकते हैं। यूनिसेफ के अनुसार, भारत में अभी भी पांच साल से कम आयु के दो करोड़ बच्चे इस समस्या से ग्रसित हैं। वैश्विक भूख सूचकांक 2019 के अनुसार, भारत में बच्चों में कुपोषण संबंधी समस्या 2008-2012 के दौरान 16.5 फीसद थी जो 2014-2018 के बीच 20.8 फीसद हो गई। कुपोषण की ऐसी अवस्था, जिसमें बच्चे अत्यधिक पतले और कमजोर हो जाते हैं को वेस्टिंग कहा जाता है। इस अवस्था में उनका विकास रुक जाता है और मृत्यु का खतरा बढ़ जाता है। यूनिसेफ के अनुसार, कोविड-19 महामारी के पहले भी 2019 में चार करोड़ सत्तर लाख बच्चे कुपोषण की इसी अवस्था के शिकार थे। कोविड-19 महामारी के सामाजिक आíथक प्रभाव के कारण पांच साल से कम आयु के अतिरिक्त 67 लाख बच्चे 2020 में खतरनाक स्तर तक कुपोषण के शिकार हो सकते हैं।-newsindialive.in