शिवसेना प्रवक्ता के पत्र पर उद्धव ठाकरे करें विचार : भाजपा
uddhav-thackeray-should-consider-shiv-sena-spokesperson39s-letter-bjp

शिवसेना प्रवक्ता के पत्र पर उद्धव ठाकरे करें विचार : भाजपा

मुंबई, 20 जून (हि.स.)। शिवसेना के प्रवक्ता एवं विधायक प्रताप सरनाईक की ओर से मुख्यमंत्री एवं पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र से राज्य की राजनीति गरमा गई है। मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस पत्र का स्वागत किया है, जबकि अन्य दल के नेताओं ने संभलकर प्रतिक्रिया व्यक्त की है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि सरनाईक के पत्र पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विचार करना चाहिए। उनकी पहल पर भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व विचार करेगा। पाटिल ने कहा कि पिछले 18 महीनों से उनकी भी यही सोच रही है। अब सरनाईक ने पहल की है तो शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को इस पर निर्णय लेना है। पूर्व मंत्री एवं भाजपा की राष्ट्रीय सचिव पंकजा मुंडे ने कहा कि उन्होंने पत्र नहीं पढ़ा है लेकिन यदि प्रताप सरनाईक चाहते हैं कि शिवसेना भाजपा के साथ जाए तो इसका स्वागत किया ही जाना चाहिए। विधानपरिषद में नेता प्रतिपक्ष प्रवीण दरेकर ने कहा कि सरनाईक के पत्र से यह साबित हो गया कि शिवसेना के अधिकांश विधायक महाविकास आघाड़ी सरकार में खुश नहीं है। महाविकास आघाड़ी सरकार में भले ही मुख्यमंत्री शिवसेना का है लेकिन उनके विधायकों की बात नहीं सुनी जा रही है। इसी वजह से शिवसेना विधायकों में नाराजगी है। भाजपा नेता किरीट सोमैया ने कहा कि प्रताप सरनाईक पर केंद्रीय एजेंसियों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। भले ही शिवसेना भाजपा के साथ गठबंधन कर ले लेकिन सरनाईक की जेलयात्रा तय है। शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत ने कहा कि मुख्यमंत्री को किसी भी विधायक द्वारा लिखे पत्र पर प्रतिक्रिया नहीं दी जा सकती है लेकिन सरनाईक के पत्र का सार यही है कि किस तरह केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा महाविकास आघाड़ी के विधायकों को परेशान किया जा रहा है। इस पत्र पर मीडिया को अपना काम करना चाहिए। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि शिवसेना विधायक सरनाईक की ओर मुख्यमंत्री को भेजा गया पत्र शिवसेना का आंतरिक मामला है। इस पर शिवसेना नेता खुद विचार करेंगे। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं राज्य के जलसंसाधन मंत्री जयंत पाटिल ने कहा कि शिवसेना विधायक सरनाईक ने अपनी व्यथा पत्र के जरिए अपने अध्यक्ष तक पहुंचाई है, इस पर उद्धव ठाकरे खुद विचार करेंगे। जयंत पाटिल ने यह भी कहा कि प्रताप सरनाईक के इस पत्र का महाविकास आघाड़ी सरकार पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। हिन्दुस्थान समाचार/ राजबहादुर

Related Stories

No stories found.