सिक्किम में आंशिक राहत के साथ 31 मई तक बढ़ा संपूर्ण लॉकडाउन

सिक्किम में आंशिक राहत के साथ 31 मई तक बढ़ा संपूर्ण लॉकडाउन
total-lockdown-extended-till-31-may-with-partial-relief-in-sikkim

गंगटोक, 22 मई (हि.स.)। सिक्किम सरकार ने राज्य में जारी संपूर्ण लॉकडाउन को 31 मई, 2021 तक बढ़ा दिया है। मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग की अध्यक्षता में शनिवार को कोविड-19 पर हुई समीक्षा बैठक में प्रदेश की मौजूदा स्थिति पर व्यापक चर्चा के बाद लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला लिया गया है। राजधानी गंगटोक के सम्मान भवन में हुई बैठक में कैबिनेट मंत्रियों, राज्य के मुख्य सचिव, डीजीपी तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। सिक्किम में 17 मई से एक सप्ताह के लिए संपूर्ण लॉकडाउन लागू किया गया था जो 24 मई तक चलेगा। आज राज्य सरकार ने इसे बढ़ाकर 31 मई कर दिया है। इससे पहले राज्य में 6 मई से 16 मई तक आंशिक लॉकडाउन लगाया गया था। इस संपूर्ण लॉकडाउन में आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर अन्य सभी सेवाओं पर प्रतिबंध लगाया है। 24 से 31 मई तक लागू होने वाले दूसरे चरण के संपूर्ण लॉकडाउन में राज्य सरकार ने लोगों को आंशिक राहत दी है। राशन और सब्जी की दुकानें सुबह 8 से 11 बजे तक खुली रहेंगी। इसी तरह सिक्किम के एकमात्र चाय बागान 'तिमी चाय बागान' को 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम करने की अनुमति दी गई है। इसके अलावा अन्य पाबंदियां यथावत रखी गई हैं। इस दौरान वाहनों और लोगों की अंतरराज्यीय और अंतर-जिला आवाजाही पूरी तरह से बंद रहेगी। मुख्यमंत्री तमांग ने लोगों से अपने-अपने आसपास की दुकानों पर राशन व सब्जी खरीदने की अपील की है। उन्होंने लोगों से कोविड उचित व्यवहार का सख्ती से पालन करने का भी आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने राज्य में कोविड-19 की वर्तमान स्थिति का भी आकलन करते हुए ब्लैक फंगस के किसी भी संभावित मामलों की जांच, निदान और प्रबंधन के लिए तैयारियों पर विशेष ध्यान देने को कहा। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को तत्काल एक तकनीकी विशेषज्ञ समिति गठित करने और 2-डोक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) और कोविड-19 सेल्फ टेस्टिंग किट की खरीद को कारगर बनाने के निर्देश दिए। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री तमांग ने आशा कार्यकर्ताओं को कोविड-19 महामारी से संबंधित कार्यों में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए एकमुश्त प्रोत्साहन के रूप में मुख्यमंत्री राहत कोष से 10 हजार रुपये देने की भी घोषणा की। हिन्दुस्थान समाचार/बिशाल/सुनीत

अन्य खबरें

No stories found.