प्रधानमंत्री की बात और आवाज सुनती है देश की जनता : विष्णु दत्त शर्मा

 प्रधानमंत्री की बात और आवाज सुनती है देश की जनता : विष्णु दत्त शर्मा
the-people-of-the-country-listen-to-the-voice-and-voice-of-the-prime-minister-vishnu-dutt-sharma

भोपाल, 27 जून (आईएएनएस)। भारतीय जनता पार्टी की मध्य प्रदेश इकाई के प्रदेशाध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही ऐसे नेता हैं, जिन पर जनता विश्वास करती है, इसीलिए उनकी बात और आवाज देश की जनता सुनती है। देश ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बाद इतना विश्वास प्रधानमंत्री मोदी पर ही किया है। प्रधानमंत्री मोदी की मन की बात कार्यक्रम को प्रेरक और आशा जगाने वाला बताते हुए उन्होंने कहा कि देश की जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विश्वास करती है, इसलिए वह उनकी बात और आवाज सुनती है। प्रधानमंत्री जब आह्वान करते हैं कि ताली-थाली बजाना है, दीपक जलाना है, तब कोरोना संकट से बचने के लिए देश का प्रत्येक नागरिक उनकी बात को मानता है। भारत में लोगों ने नेताजी सुभाषचंद्र बोस के बाद इतना विश्वास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ही किया है। उन्होंने कांग्रेस के नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि राहुल गांधी और कांग्रेस के किसी भी नेता की कोई विश्वसनीयता देश में नहीं बची है। कांग्रेस में क्षमता ही नहीं बची है कि देश में कोई उसके नेताओं की बात सुने। दिग्विजय सिंह, कमल नाथ और स्वयं राहुल गांधी जैसे लोग देश को बदनाम करने के लिए जो कुछ कर सकते हैं और कर रहे हैं। जनता यह जानती है कि पूरे देश में वैक्सीन भी पहुंच रही है, प्रधानमंत्री की आवाज भी पहुंच रही है और जो भी आवश्यक होगा वह भी पहुंचाया जाएगा। शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने वैक्सीनेशन को लेकर बैतूल के डोलरिया गांव में पंचायत के राजेश एवं किशोर से बात की। प्रधानमंत्री ने जिस तरह से इन ग्रामीणों का भ्रम दूर किया और जिस तरह से उन्हें समझाया, उससे वैक्सीन के बारे में भ्रम के शिकार लोगों की सोच बदलेगी और वे वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित होंगे। शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने घर में औषधीय पौधों और बीजों का म्यूजियम बनाने वाले सतना के रामलोटन तथा उत्तराखंड के बांदा में जल संरचनाओं के द्वारा जल संग्रहण की चर्चा करके यह बताने का प्रयास किया है कि जल और पर्यावरण का संरक्षण हर नागरिक का परम कत्र्तव्य है। --आईएएनएस एसएनपी/एसजीके

अन्य खबरें

No stories found.