कोरोना नियमावली के पालन पर ध्यान दें जिलाधिकारी : मुख्यमंत्री

कोरोना नियमावली के पालन पर ध्यान दें जिलाधिकारी : मुख्यमंत्री
the-district-magistrate-should-pay-attention-to-following-the-corona-rules-chief-minister

मुंबई, 07 जून (हि.स.)। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि सूबे में कोरोना संक्रमितों की घटती संख्या की वजह से अनलॉक की प्रक्रिया चरणबद्ध तरीके से शुरू की गई है। इसका यह अर्थ कतई नहीं कि कोरोना खत्म हो गया है। इसलिए सभी जिलाधिकारियों को कोरोना नियमावली का कठोरता से पालन करने पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है। मुख्यमंत्री ठाकरे ने सोमवार को सभी जिलाधिकारियों को अपने-अपने जिलों में कोरोना नियमावली का पालन कठोरता से कराने का आदेश दिया है। आपदा प्रबंधन मंत्री विजय बडेट्टीवार ने कहा कि जनता की दिक्कतों को देखते हुए अनलॉक प्रक्रिया शुरू की गई है। अगर बाद में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती है तो सारी जिम्मेदारी जनता की ही होगी। इसलिए सभी नागरिकों को मास्क एवं दो गज की दूरी का पालन गंभीरता से करना चाहिए। संबंधित अधिकारियों और मुंबई में सोमवार से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। मुंबई की महापौर किशोरी पेडणेकर ने कहा कि अनलॉक की वजह से सोमवार को सुबह से शहर की सड़कों पर भीड़ उमड़ पड़ी है। इसलिए लोगों को सावधान रहना जरूरी है। महापौर ने कहा कि अनलॉक के तहत मुंबई में दुकानें सुबह सात से चार तक खुली रहेंगी। मैदान और गार्डन में लोग सुबह पांच से नौ बजे तक व्यायाम कर सकते हैं। जिम और ब्यूटी पार्लर 50 फीसदी क्षमता से ही काम करेंगे। सभी दुकानें शनिवार और रविवार को बंद रहेंगी। जबकि मेडिकल की दुकानें 24 घंटों तक खुली रह सकती हैं। माल और सिनेमाघर बंद रहेंगे। लोकल ट्रेन के बारे में अगले सप्ताह कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखकर विचार किया जाएगा। महापौर ने बताया कि अनलॉक के दौरान शादी समारोह में 50 लोग ही जा सकते हैं। वहीं अंतिम संस्कार में 20 लोग शरीक हो सकते हैं। कोरोना संक्रमण के खतरे की वजह से करीब डेढ़ महीने तक लॉक रही मुंबई सोमवार से फिर से अनलॉक हुई। हालांकि अनलॉक होते ही मुंबई की सड़कों पर जो नजारा दिखाई दिया, वह परेशानी बढ़ाने वाला साबित हो सकता है। पाबंदियों में ढील मिलते ही शहर में भारी भीड़ देखने को मिल रही है। ईस्टर्न और वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे पर भी कई किलोमीटर लंबा जाम लगा रहा। दफ्तर जाने के लिए लोग बेस्ट बस स्टॉप पर लाइनों में लगे हुए नजर आए। फिलहाल बस में सिर्फ उतने ही लोग एक बार में जा सकते हैं, जितनी सीटें उपलब्ध हैं। किसी को भी खड़े होकर यात्री की अनुमति नहीं दी गई है। ठाणे शहर से मुंबई आने वाली गाड़ियों की संख्या में आज काफी इजाफा देखा गया। महाराष्ट्र स्थित ठाणे शहर और नवी मुंबई में राज्य सरकार की अनलॉक योजना के दूसरे चरण में गैर-जरूरी सामान और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान खुलने से लोगों ने राहत की सांस ली। इससे सार्वजनिक स्थानों पर आवाजाही बढ़ गई है लेकिन वे सभी लोग दो गज की दूरी बनाए रखने और मास्क पहनने के नियम का पालन कर रहे हैं। ठाणे और नवी मुंबई में कई सार्वजनिक वाहन सड़कों पर नजर आए, लेकिन उनमें ज्यादा भीड़ नहीं थी। महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार रात एक अधिसूचना जारी कर साप्ताहिक संक्रमण दर और ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता के आधार पर राज्य में कोरोना प्रतिबंधों में ढील देने के लिए पांच-स्तरीय योजना की घोषणा की थी। दूसरे चरण में जिन शहरों और जिलों में संक्रमण दर पांच फीसदी और 25 से 40 फीसदी ऑक्सीजन बेड पर मरीज हैं, वहां जरूरी और गैर जरूरी दुकानों को नियमित समय के अनुसार खोलने की इजाजत होगी, लेकिन मॉल, थिएटर, मल्टीप्लेक्स, सभागार और रेस्तरां 50 प्रतिशत क्षमता के साथ कार्य करेंगे। ठाणे और पालघर जिलों में कल्याण, भिवंडी, मीरा-भायंदर, उल्हासनगर और वसई-विरार सहित अन्य शहर एवं कस्बे तीसरे चरण में आते हैं। इसके तहत प्रतिबंधों में ढील उन जगहों पर लागू होगी जहां संक्रमण दर पांच प्रतिशत से 10 प्रतिशत है और ऑक्सीजन बिस्तर पर मरीजों के भर्ती होने की दर 40 प्रतिशत से अधिक है। ऐसे स्थानों पर आवश्यक वस्तुओं की दुकानें शाम चार बजे तक खुली रह सकती हैं, जबकि आम वस्तुओं की दुकानें केवल कार्यदिवसों में शाम चार बजे तक खुली रह सकती हैं। मॉल एवं मल्टीप्लेक्स बंद रहेंगे और सप्ताह के दिनों में शाम चार बजे तक 50 प्रतिशत क्षमता के साथ रेस्तरां खुल सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / राजबहादुर