तमिलनाडु सरकार ने सितंबर के बाद भी कालेज की परीक्षाएं कराने में जताई असमर्थता
तमिलनाडु सरकार ने सितंबर के बाद भी कालेज की परीक्षाएं कराने में जताई असमर्थता
देश

तमिलनाडु सरकार ने सितंबर के बाद भी कालेज की परीक्षाएं कराने में जताई असमर्थता

news

चेन्नई, 11 जुलाई (हि.स.)। तमिलनाडु सरकार ने इस साल कॉलेज की अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए सितम्बर या उसके बाद भी परीक्षाएं आयोजित कराने में असमर्थता व्यक्त की है। राज्य के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने कहा कि हम सितम्बर 2020 के बाद भी परीक्षाएं कराने की स्थिति में नहीं होंगे। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल को लिखे एक पत्र में उन्होंने कहा कि ज्यादातर सरकारी एवं निजी कॉलेजों में कला और विज्ञान, इंजीनियरिंग, पॉलीटेक्निक और उच्च शिक्षण संस्थानों को कोविड-19 के देखभाल केंद्रों में बदल दिया गया है, जहां बिना लक्षण वाले संक्रमित लोगों को एकांतवास में रखा जा रहा है और इन केंद्रों को कुछ और समय के लिए कोविड केंद्र बनाए रखा जा सकता है। ऐसे में परीक्षाएं कराने से विद्यार्थियों के स्वास्थ्य के लिए खतरा भी हो सकता है। उन्होंने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि राज्यों को गुणवत्ता और अकादमिक विश्वसनीयता से समझौता किए बिना, अपने मूल्यांकन के तरीकों पर काम करने की स्वतंत्रता दी जाए। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल कि छह जुलाई 2020 के दिशा-निर्देश जारी कर देश के सभी शैक्षणिक संस्थानों को अंतिम सेमेस्टर के विद्यार्थियों के लिए सितंबर 2020 तक परीक्षाएं आयोजित करना अनिवार्य किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार / सुनील-hindusthansamachar.in