स्वच्छ सर्वेक्षण 2021: एनडीएमसी को 1-3 लाख आबादी श्रेणी में स्वच्छता के लिहाज से मिली पहली रैंकिंग

 स्वच्छ सर्वेक्षण 2021: एनडीएमसी को 1-3 लाख आबादी श्रेणी में स्वच्छता के लिहाज से मिली पहली रैंकिंग
swachh-survekshan-2021-ndmc-got-first-ranking-in-terms-of-cleanliness-in-1-3-lakh-population-category

नई दिल्ली, 20 नवंबर (आईएएनएस)। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 के अंतर्गत नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) को 1-3 लाख आबादी की श्रेणी में देश का सबसे स्वच्छ शहर होने के लिए पहली रैंकिंग के अवार्ड से सम्मानित किया गया है। एनडीएमसी को भारत सरकार के आवासन और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा परिभाषित 5 सितारा कचरा मुक्त शहर और वाटर प्लस प्रमाणित श्रेणी के रूप में भी चुना गया है। इन सभी रैक्स को मिलाकर पालिका परिषद को प्रेरक दौर सम्मान में प्लेटिनम सिटी (दिव्य) के रूप में रखा है। यह पुरस्कार एनडीएमसी अध्यक्ष धर्मेंद्र के नेतृत्व में सचिव ईशा खोसला, एमओएच डॉ रमेश कुमार और सीएमओ डॉ शकुंतला ने प्राप्त किया। वहीं भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय आवासन और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी की उपस्थिति में इसके पुरस्कार वितरित किए। दरअसल स्वच्छ भारत मिशन के तहत कचरा मुक्त भारत बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विजन से स्वच्छ सर्वेक्षण भारत में चालू किया गया यह दुनिया का सबसे बड़ा स्वच्छता सर्वेक्षण है। इसके अलावा यह स्वच्छ सर्वेक्षण 2016 में शुरू हुआ था, तब केवल 73 शहरों ने इसमे भाग लिया था और जब आवासन और शहरी मामलों के मंत्रालय (एमओएचयूए), भारत सरकार ने आज वर्ष 2021 में आयोजित छठे स्वच्छ सर्वेक्षण सर्वेक्षण का परिणाम घोषित किया है तो इसमें 4320 शहरों ने भाग लिया है। नई दिल्ली नगरपालिका परिषद सेवा मानकों में उत्कृष्टता स्थापित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है और इसका उद्देश्य अपने निवासियों को विश्व स्तरीय नागरिक सुविधाएं प्रदान करना है। इस प्रयास के तहत नई दिल्ली नगरपालिका परिषद ने आवासन और शहरी मामलों के मंत्रालय के साथ मिलकर नई दिल्ली में आज के कार्यक्रम को कचरा मुक्त कार्यक्रम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । --आईएएनएस एमएसके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.