सुरक्षा चुनौतियों के कारण महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए : वायुसेना प्रमुख

 सुरक्षा चुनौतियों के कारण महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए : वायुसेना प्रमुख
security-challenges-led-to-significant-changes-air-chief

नई दिल्ली, 19 जून (आईएएनएस)। भारतीय वायु सेना अपने पड़ोसी देशों के साथ अभूतपूर्व और तेजी से विकसित हो रहे सुरक्षा परि²श्य के बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है। एयर चीफ मार्शल आर.के.एस. भदौरिया ने शनिवार को इस ओर इशारा करते हुए कहा कि इन परिस्थितियों को देखते हुए हमने भी अपनी शक्ति में तेजी से बढ़ोतरी की है। हैदराबाद के डुंडीगल में वायु सेना अकादमी में संयुक्त स्नातक परेड में बोलते हुए, एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने कहा, हमारे संचालन के हर पहलू में आला प्रौद्योगिकी और लड़ाकू शक्ति का तेजी से समावेश कभी भी उतना तीव्र नहीं रहा जितना अब है। उन्होंने कहा कि यह मुख्य रूप से अभूतपूर्व और तेजी से विकसित हो रही सुरक्षा चुनौतियों के कारण है, जिसका हम सामना करते हैं। साथ ही अपने पड़ोस और अन्य कारणों से भू-राजनीतिक अनिश्चितता उत्पन्न हो रही है। भारतीय सेना ने लंबे समय से दो मोर्चे के युद्ध के खतरे का सामना किया है। एक ही समय में सक्रिय चीन और पाकिस्तान के साथ विवादित सीमा की वजह से सशस्त्र बलों को अधिकतम संख्या तक तक बढ़ाया गया। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दशकों में किसी भी संघर्ष में जीत हासिल करने में वायु शक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका को स्पष्ट रूप से स्थापित किया है। भदौरिया ने यह भी उल्लेख किया कि कैसे वायु सेना ने परिचालन तत्परता बनाए रखी, कोविड -19 महामारी के खिलाफ राष्ट्रीय लड़ाई में लगातार सहायता की। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना के भीतर सक्रिय टीकाकरण और सख्त कोविड अनुशासन ने हमें युद्ध स्तर पर सभी कोविड कार्यों को करने में सक्षम बनाया है। आईएएफ की भारी लिफ्ट क्षमता को महत्वपूर्ण कोविड से संबंधित उपकरणों के एयरलिफ्ट के लिए क्रियान्वित किया गया था, जिसमें हमारे परिवहन बेड़े ने दुनिया भर में और घरेलू स्तर पर महत्वपूर्ण ऑक्सीजन टैंकरों, और सभी संबंधित चिकित्सा उपकरणों के परिवहन के लिए एक बड़े प्रयास में दो महीने के भीतर 3,800 घंटे से अधिक की उड़ान भरी थी। उन्होंने कहा,आने वाले वर्षों में आप इस महत्वपूर्ण परिवर्तन का एक अभिन्न अंग होंगे। --आईएएनएस आरएचए/एएनएम