गहलोत गुट के विधायकों की शिफ्टिंग पर बोले सतीश पूनिया- जैसलमेर से आगे तो अब पाकिस्तान ही है
गहलोत गुट के विधायकों की शिफ्टिंग पर बोले सतीश पूनिया- जैसलमेर से आगे तो अब पाकिस्तान ही है
देश

गहलोत गुट के विधायकों की शिफ्टिंग पर बोले सतीश पूनिया- जैसलमेर से आगे तो अब पाकिस्तान ही है

news

राजस्थान की सियासी जंग (Rajasthan Political Crisis) में अब पाकिस्तान (Pakistan) की भी एंट्री हो गई है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने अपने समर्थक विधायकों को जयपुर (Jaipur) से जैसलमेर (Jaisalmer) शिफ्ट कर दिया है. वहीं अब राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया (Satish Poonia) ने इस पर तंज कसते हुए कहा, “जयपुर से जैसलमेर और उसके आगे तो अब पाकिस्तान ही है.” दरअसल सतीश पूनिया ने शुक्रवार को एक ट्वीट कर लिखा, “सब एक हैं. कोई खतरा नहीं है. लोकतंत्र है. सब ठीक है तो बाड़ा क्यूं? और बिकाऊ कौन है? उनके नाम सार्वजनिक करो. बाड़े में भी अविश्वास!! जयपुर से जैसलमेर के बाद आगे तो पाकिस्तान है. हकीकत से कब तक दूर भागेंगे जादूगर अशोक गहलोत जी.” “सरकार नहीं कर पा रही विपक्ष का सामना” पूनिया ने कहा कि इस बार सरकार विधानसभा में विपक्ष का सामना नहीं कर पा रही है. राजस्थान में कांग्रेस की स्थिति खुद विनाशकारी है. सीएम लोकतंत्र की बात करते हैं, लेकिन तानाशाही निभा रहे हैं और कोई शासन नहीं है. “विधायकों को एकजुट रखने के लिए लाया गया जैसलमेर” सरकार का बचाव करते हुए, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह ने कहा कि विधायकों को जैसलमेर ले जाया गया ताकि वे एकजुट रह सकें. उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री की रणनीति यह है कि एक भी विधायक का शिकार न हो.” मंत्री ने कहा कि शिफ्टिंग उनकी रणनीति का हिस्सा था. उन्होंने आश्वासन दिया कि इससे लोगों के काम का नुकसान नहीं होगा. मालूम हो कि सीएम गहलोत ने जयपुर को होटल से पांच चार्टर्ड उड़ानों के जरिए उन्हें दो हफ्तों के लिए जैसलमेर की सूर्यगढ़ में शिफ्ट कर दिया गया है. जिस होटल में इन विधायकों को ठहराया गया है, वहीं करीब 70 कमरे हैं और सभी कमरे विधायकों के लिए बुक किए गए हैं. “मानसिक रूप से परेशान हो रहे थे विधायक” वहीं सीएम गहलोत ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “हमारे विधायक जो कई दिनों से यहां (जयपुर) बंद थे, वो मानसिक रूप से परेशान हो रहे थे. हमने बाहरी दबाव से दूर रखने के लिए उन्हें ट्रांसफर करने के बारे में सोचा है.”-newsindialive.in