अतिक्रमण अभियान के दौरान अवैध कॉलोनी में सड़क नेटवर्क धराशायी

 अतिक्रमण अभियान के दौरान अवैध कॉलोनी में सड़क नेटवर्क धराशायी
road-network-collapsed-in-illegal-colony-during-encroachment-drive

गुरुग्राम, 11 जून (आईएएनएस)। हरियाणा नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग (डीटीसीपी) ने गुरुवार को एक अवैध कब्जा हटाओ अभियान के दौरान सेक्टर 77 के खेरकी दौला में छह एकड़ भूमि पर विकसित एक अवैध कॉलोनी में बनाए जा रहे एक सड़क नेटवर्क और बिजली के खंभे को तोड़ दिया। अधिकारियों ने कहा कि एक पूर्व विधायक सहित छह लोगों द्वारा एक अवैध कॉलोनी विकसित की जा रही थी। मामले के संबंध में, अप्रैल 2021 में खेरकी दौला पुलिस स्टेशन में हरियाणा विकास और शहरी क्षेत्रों के नियमन अधिनियम, 1975 की धारा 10, 7 (आई), और 7 (2) के तहत प्रवीण यादव, दीपक चुग, मनोरमा, महेंद्र शर्मा, सोमबीर जाखड़ और गुरुग्राम के पूर्व विधायक उमेश अग्रवाल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। डीटीसीपी के अधिकारियों ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज करने के बावजूद एक अवैध कॉलोनी में सड़क नेटवर्क और बिजली पोल भी लगाया गया था। खेरकी दौल पुलिस थाने के स्टेशन हाउस ऑफिसर कृष्ण कांत आईएएनएस को बताया कि पूर्व विधायक तोड़फोड़ अभियान को रोकने के लिए मौके पर पहुंचे, लेकिन डीटीसीपी अधिकारियों ने उन्हें शांत किया। एक अवैध कॉलोनी में एक सड़क नेटवर्क और बिजली के पोल बनाए गए थे, जिसे डीटीसीपी की एक टीम ने तोड़ दिया था। उन्होंने कहा कि डीटीसीपी अधिकारियों ने बताया कि उन्हें एक गुप्त सूचना मिली थी कि सेक्टर 77 में छह एकड़ जमीन पर एक अवैध कॉलोनी बनाई जा रही है। बाद में उन्होंने एक निरीक्षण किया और पाया कि यहां एक कॉलोनी अवैध तौर पर विकसित की जा रही थी। डीटीसीपी के एक अधिकारी ने कहा, हमने फिर से राजस्व विभाग के साथ एक संयुक्त निरीक्षण किया और पाया कि दो संपत्ति डीलर और पूर्व विधायक उमेश अग्रवाल अवैध कॉलोनी को बढ़ावा दे रहे थे। पुलिस में शिकायत दर्ज की गई थी और अप्रैल में मामला दर्ज किया गया था। डीटीसीपी अधिकारियों ने बताया कि जमीन पर सड़क नेटवर्क, बिजली के खंभे और एक कार्यालय का निर्माण किया गया है। यह एक संस्थागत क्षेत्र है और इस क्षेत्र में एक अवैध कॉलोनी के विकास की अनुमति नहीं दी जा सकती है। इसे विकसित करने के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई थी। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस