रेलवे की 224 ऑक्सीजन एक्सप्रेसों ने 13 राज्यों में पहुंचाई 14,500 टन ऑक्सीजन

रेलवे की 224 ऑक्सीजन एक्सप्रेसों ने 13 राज्यों में पहुंचाई 14,500 टन ऑक्सीजन
railway39s-224-oxygen-expresses-transport-14500-tonnes-of-oxygen-in-13-states

नई दिल्ली, 22 मई (हि.स.)। भारतीय रेल सभी बाधाओं को पार करते हुए तथा नए समाधान निकाल कर देश के विभिन्न राज्यों में तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) पहुंचाना जारी रखे हुए है। भारतीय रेल द्वारा अभी तक देश के विभिन्न राज्यों में 884 से अधिक टैंकरों में 14,500 मीट्रिक टन चिकित्सा उपयोग के लिए मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति कर चुकी हैं। रेल मंत्रालय ने शनिवार को आधिकारिक बयान जारी कर कहा, लगभग 224 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने अब तक अपनी यात्राएं पूरी कर ली हैं और विभिन्न राज्यों को सहायता पहुंचाई है। 35 टैंकरों में 563 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन लेकर 8 ऑक्सीजन एक्सप्रेस रेलगाड़ियां रास्ते में हैं। पिछले कुछ दिनों से ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन रोजाना 800 टन से अधिक ऑक्सीजन देशभर में पहुंचा रही है। भारतीय रेलवे का यह प्रयास रहा है कि ऑक्सीजन का अनुरोध करने वाले राज्यों को कम से कम संभव समय में अधिक से अधिक संभव ऑक्सीजन पहुंचाई जा सके। ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा 13 राज्यों- उत्तराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, पंजाब, केरल, दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश को ऑक्सीजन सहायता पहुंचाई गई है। रेल मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, महाराष्ट्र में 614 मीट्रिक टन, उत्तर प्रदेश में लगभग 3463 मीट्रिक टन, मध्य प्रदेश में 566 मीट्रिक टन, दिल्ली में 4278 मीट्रिक टन, हरियाणा में 1698 मीट्रिक टन, राजस्थान में 98 मीट्रिक टन, कर्नाटक में 943 मीट्रिक टन, उत्तराखंड में 320 मीट्रिक टन, तमिलनाडु में 769 मीट्रिक टन, आध्र प्रदेश में 571 मीट्रिक टन, पंजाब में 153 मीट्रिक टन, केरल में 246 मीट्रिक टन और तेलंगाना में 772 मीट्रिक टन से अधिक ऑक्सीजन पहुंचाई गई है। रेल मार्गों को खुला रखा गया है और उच्च सतर्कता बरती जा रही है ताकि ऑक्सीजन एक्सप्रेस समय पर पहुंच सकें। यह सभी काम इस तरह किया जा रहा है कि अन्य माल ढ़ुलाई परिचालन में कमी नहीं आए। नई ऑक्सीजन लेकर जाना बहुत ही गतिशील कार्य है और आंकड़े हर समय बदलते रहते हैं। रेलवे ने ऑक्सीजन सप्लाई स्थानों के साथ विभिन्न मार्गों की मैपिंग की है और राज्यों की बढ़ती हुई आवश्यकता के अनुसार अपने को तैयार ऱखा है। भारतीय रेल को एलएमओ लाने के लिए टैंकर राज्य प्रदान करते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुशील