पंजाब के मुख्यमंत्री ने ब्रिटिश उच्चायोग से लंदन और चंडीगढ़ के बीच सीधी उड़ान मांगी

 पंजाब के मुख्यमंत्री ने ब्रिटिश उच्चायोग से लंदन और चंडीगढ़ के बीच सीधी उड़ान मांगी
punjab-cm-asks-british-high-commission-for-direct-flight-between-london-and-chandigarh

चंडीगढ़, 5 अप्रैल (आईएएनएस)। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने मंगलवार को ब्रिटिश उप उच्चायुक्त कैरोलिन रोवेट से मुलाकात के दौरान लंदन और चंडीगढ़ के बीच सीधी उड़ानें प्राथमिकता के आधार पर शुरू करने के लिए ब्रिटिश उच्चायुक्त से बात करने की अपील की। रोवेट ने यहां मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास पर उनसे शिष्टाचार भेंट की। उन्होंने कहा कि वह निश्चित रूप से ब्रिटेन में बसे पंजाबी प्रवासियों के अलावा पड़ोसी राज्यों में रहने वाले लोगों की सुविधा के लिए सीधी उड़ान का मामला उठाएंगी। उन्होंने मान को उनके नेतृत्व में राज्य सरकार के गठन के लिए भारी जनादेश हासिल होने की बधाई दी। मान ने चंडीगढ़ और लंदन के बीच तत्काल सीधे हवाई संपर्क की जरूरत पर जोर देते हुए रोवेट को अवगत कराया कि चंडीगढ़ अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा पड़ोसी राज्यों हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और चंडीगढ़ के लोगों की बढ़ती मांग को पूरा करता है। पराली जलाने और जैव-अपशिष्ट प्रबंधन के खतरे से निपटने के लिए नवीनतम तकनीकों के बारे में मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए रोवेट ने इन क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के प्रति गहरी रुचि दिखाई, क्योंकि ब्रिटेन के पास उन्हें प्रभावी ढंग से संभालने के लिए समय-परीक्षण और सबसे उन्नत विशेषज्ञता है। उन्होंने मान को यह भी बताया कि ब्रिटेन में कुछ उन्नत स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम हैं, जो कुछ स्थानीय विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा के प्रतिष्ठित संस्थानों के सहयोग से चलाए जा सकते हैं, ताकि राज्य के युवाओं को दुनिया भर में लाभकारी रोजगार मिल सके। इसी तरह, उन्होंने खेल विज्ञान, खेल प्रौद्योगिकी, खेल प्रबंधन और खेल में खेल शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए खेल में उन्नत पाठ्यक्रमों के साथ दोनों पक्षों के छात्रों को लैस करने के लिए आपसी आधार पर कोचिंग पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए राज्य खेल विश्वविद्यालय के साथ गठजोड़ करने की इच्छा भी व्यक्त की। मान ने मिलने आए प्रतिनिधिमंडल को समर्थन और सहयोग देने का आश्वासन देते हुए कहा कि राज्य सरकार पंजाब के समग्र विकास को सार्थक तरीके से सुनिश्चित करने के लिए इन पहलों का स्वागत करेगी। --आईएएनएस एसजीके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.