प्रियंका बोलीं, यूपी में जहां-जहां हिंसा हुई वहां के चुनाव रद्द करने को लेकर चुनाव आयोग को लिखेंगी पत्र

 प्रियंका बोलीं, यूपी में जहां-जहां हिंसा हुई वहां के चुनाव रद्द करने को लेकर चुनाव आयोग को लिखेंगी पत्र
priyanka-said-will-write-a-letter-to-the-election-commission-to-cancel-the-elections-wherever-there-is-violence-in-up

लखीमपुर, 17 जुलाई (आईएएनएस)। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने शनिवार को लखीमपुर के पंसगवा ब्लॉक के सेमरा घाट पहुंचकर ब्लॉक प्रमुख चुनाव में अभद्रता का शिकार हुई सपा की महिला उम्मीदवार से मुलाकात की। इस दौरान उन्हें सांत्वना दी और कहा कि वह हर हाल में उन्हें न्याय दिलाकर रहेंगी। जहां जहां चुनाव में हिंसा हुई है वहां के चुनाव रद्द कराने के लिए आयोग को पत्र लिखेंगी। प्रियंका गांधी ने कहा कि लोकतंत्र का चीरहरण करने वाले भाजपा के गुंडे कान खोलकर सुन लें, महिलाएं प्रधान, ब्लॉक प्रमुख, विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री बनेंगी और उनपर अत्याचार करने वालों को शह देने वाली सरकार को शिकस्त देंगी। पंचायत चुनाव में भाजपा द्वारा की गयी हिंसा की शिकार अपनी सभी बहनों, नागरिकों के न्याय के लिए मैं राज्य चुनाव आयोग को पत्र लिखूंगी। प्रियंका ने पीड़िता से भेंट कर उन्हें न्याय दिलाने का भरोसा दिया और कहा कि वो चुनाव आयोग को पत्र लिखेंगी और जहां-जहां हिंसा हुई है वहां के ब्लॉक प्रमुख चुनाव को रद्द करने की मांग करेंगी। करीब 20 मिनट की मुलाकात में उन्होंने पीड़ित महिला को गले भी लगाया। उन्होंने यूपी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि आठ जुलाई को ब्लॉक प्रमुख के नामांकन के दौरान महिला प्रत्याशी से बदसलूकी की जाती है और पुलिस खड़ी-खड़ी देखती रहती है। उन्होंने कहा कि वह मांग करती हैं यह चुनाव रद्द होगा और जो लोग भी इस कांड में दोषी हैं उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। यूपी पंचायत चुनाव में हुई हिंसा पर सवाल उठाते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि पंचायत चुनाव में जीत पर पीएम मोदी और योगी तारीफ करते हैं, लेकिन उनको यहां की सच्चाई नजर नहीं आती, जबकि घटना के वीडियो सामने आए हैं। दो महिलाओं से बदसलूकी होती है। प्रशासन मौन रहता है। गांधी ने कहा की लगभग हर जिले में कुछ न कुछ हुआ है। कहीं हिंसा हुई है, कहीं बम फूटे हैं और कहीं महिलाओं के साथ ज्यादती हुई है, और प्रधानमंत्री जी पंचायत चुनाव की जीत पर मिठाई बांटते हैं। यह लोकतंत्र की हत्या नहीं तो और क्या है। उन्होंने कहा कि जिस अकेले सीओ ने पीड़ितों को बचाने की कोशिश की सरकार ने उसे ही निलंबित कर दिया। बाकी अधिकारी जो खड़े थे उनको कुछ नहीं किया। वाड्रा ने आरोप लगाया कि कोई भी आदमी 10 गुंडे लेकर इस तरह से दबंगई करेगा और चुनाव जीतकर चला जाएगा। क्या यही लोकतंत्र है, क्या इस तरह का लोकतंत्र ही देश और प्रदेश में स्थापित होना चाहिए लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई गई हैं और प्रधानमंत्री भी योगी सरकार के पंचायत चुनाव में प्रदर्शन की तारीफ कर रहे हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि अगर यही करना है तो फिर महिला आरक्षण क्यों किया गया। कहा कि वह इस अत्याचार के खिलाफ खड़ी रहेंगी। इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू विधानमंडल दल के नेता आराधना मिश्रा मोना, पूर्व सांसद जफर अली नकवी वरिष्ठ नेता दीपक, अखिल भारतीय कांग्रेस के महासचिव धीरज गुर्जर, जिलाध्यक्ष प्रहलाद पटेल समेत तमाम कांग्रेसी नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे। --आईएएनएस विकेटी/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.