कोविड की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार : राहुल गांधी

 कोविड की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार : राहुल गांधी
prime-minister-responsible-for-second-wave-of-kovid-rahul-gandhi

नई दिल्ली, 28 मई (आईएएनएस)। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को देश में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराते हुए सरकार पर सीधा हमला बोला। वैक्सीन की कमी को लेकर सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि भारत कोविड से जंग लड़ रहा है और इस महामारी को रोकने के लिए टीकाकरण ही एकमात्र उपाय है। उन्होंने सरकार पर कोविड से हुई मौतों के वास्तविक आंकड़े छिपाने का आरोप लगाया। वर्चुअली एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, राहुल गांधी ने कहा, मैंने पिछले साल फरवरी से कोविड को लेकर कई बार सरकार को चेतावनी दी थी। और सरकार ने हमारा मजाक उड़ाया। यहां तक कि प्रधानमंत्री ने भी कोविड पर जीत की घोषणा की। उन्होंने कहा कि समस्या यह है कि सरकार और प्रधानमंत्री कोविड को नहीं समझ पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले साल उन्होंने सरकार से कहा था कि वह कोविड को जगह न दें और दरवाजे बंद कर दें। उन्होंने कहा, वैक्सीन स्थायी समाधान है। और यदि आप वैक्सीन नहीं लेते हैं तो वायरस खुद को बदलता रहेगा और कोविड की दूसरी, तीसरी, चौथी और कई अन्य लहरें होंगी। कांग्रेस नेता ने कहा कि वैक्सीन के मुद्दे पर, मैंने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि अगर सरकार के पास वैक्सीन की उचित रणनीति नहीं है, तो लोग प्रभावित होते रहेंगे। राहुल गांधी ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, विदेश मंत्री (एस जयशंकर) कह रहे हैं कि भारत ने दूसरे देशों को वैक्सीन मुहैया कराकर नाम कमाया है। और आज स्थिति क्या है। देश के केवल 3 प्रतिशत लोगों को टीका लगाया गया। इसका मतलब है कि 97 प्रतिशत लोग में कोरोना संक्रमण होने की संभावना है। उन्होंने देश में कोविड की दूसरी लहर के लिए भी प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, कोविड की दूसरी लहर प्रधानमंत्री जिम्मेदार हैं। यह प्रधानमंत्री की विफलता के कारण है कि हमने अपने देश में कोविड की दूसरी लहर देखी है। उन्होंने दावा किया कि अगर हम इसी दर से टीकाकरण करते रहे तो भारत अपने सभी लोगों को 2024 तक ही टीका लगा पाएगा। राहुल गांधी ने यह भी आरोप लगाया कि सरकार दूसरी लहर के दौरान मरने वालों की संख्या का असली आंकड़ा छिपा रही है। --आईएएनएस आरएचए/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.