राष्ट्र्पति कोविन्द की यात्रा से बढ़ेगा कोरोना में ड्यूटी करने वाले रेलकर्मियों का मनोबल

राष्ट्र्पति कोविन्द की यात्रा से बढ़ेगा कोरोना में ड्यूटी करने वाले रेलकर्मियों का मनोबल
president-kovind39s-visit-will-boost-morale-of-railway-workers-doing-duty-in-corona

‘राष्ट्रपति सेलून’ की सेवाओं को रख-रखाव खर्च के कारण कर दिया था बंद नई दिल्ली, 25 जून (हि.स.)। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने शुक्रवार को दिल्ली सफदरजंग रेलवे स्टेरशन से एक विशेष रेलगाड़ी (राष्ट्रपति सेलून) द्वारा कानपुर की ओर प्रस्थान किया। राष्ट्रपति उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में स्थित अपने जन्मस्थान परौंख का दौरा करेंगे। पदभार संभालने के बाद कोविन्द का अपने गांव का यह पहला दौरा है। आजादी के बाद से उपयोग में लाये जा रहे राष्ट्रपति सेलून की सेवाओं को स्वयं राष्ट्रपति के निर्देश पर बंद कर दिया गया था। इससे सेलून के सालाना नवीनीकरण और रख-रखाव पर आने वाले करोड़ों रुपए के खर्च की बचत हुई। कोविड महामारी के बाद जब देश में पुनरुत्थान और पुनर्निर्माण की शुरुआत हुई तो भारतीय रेलवे ने राष्ट्रपति से इस जन-परिवहन प्रणाली से यात्रा करने का अनुरोध किया था। इसके लिए नई दिल्ली से राष्ट्रपति के पैतृक गांव के लिए एक विशेष रेलगाड़ी चलाई गई। रेल अधिकारियों का विश्वास है कि राष्ट्रपति के इस कदम से उन रेलकर्मियों का मनोबल बढ़ेगा जिन्होंने महामारी के कठिन समय के दौरान लगन और मेहनत से अपनी सेवाएं दी हैं। इससे लोगों को व्यापार, पर्यटन और अन्य उद्देश्यों के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में रेलगाड़ियों से यात्रा करने का प्रोत्साहन मिलेगा और साथ ही रेलयात्रा में उनका भरोसा भी बढ़ेगा। राष्ट्रपति कोविन्द के साथ उनकी पत्नी सविता कोविन्द, बेटी स्वाति और बेटा प्रशांत आज दोपहर 12:45 बजे विशेष ट्रेन से चार दिवसीय उत्तर प्रदेश दौरे पर रवाना हो गए। राष्ट्रपति अपनी यात्रा के पहले चरण में कानुपर जाएंगे। इसके बाद 28 जून को राष्ट्रपति कानपुर रेलवे स्टेशन से राजधानी लखनऊ के लिए ट्रेन से ही रवाना होंगे। 29 जून को वे विशेष विमान से नई दिल्ली लौटेंगे। राष्ट्रपति को ले जाने वाली यह विशेष रेलगाड़ी कानपुर देहात के झींझक व रूरा रेलवे स्टेशनों पर ठहरेगी जहां राष्ट्रपति अपने परिचितों से मुलाकात करेंगे। राष्ट्रपति को विदा करने रेलमंत्री पीयूष गोयल, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं सीईओ सुनीत शर्मा, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल, दिल्ली मंडल के मंडल रेल प्रबंधक एस.सी.जैन और रेलवे बोर्ड एवं उत्तर रेलवे के अनेक वरिष्ठ अधिकारी दिल्ली सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर मौजूद थे। राष्ट्रपति द्वारा अपनी यात्रा के लिए रेलवे का उपयोग करने पर रेलमंत्री गोयल ने उन्हें धन्यवाद दिया और आशा व्यक्त की कि कोरोना महामारी के पश्चात भारतीय रेलवे का विशाल नेटवर्क बहुत जल्द ही देश के आर्थिक गौरव को फिर से हासिल करने में सहायक होगा। हिन्दुस्थान समाचार/सुशील

अन्य खबरें

No stories found.