poll-of-mahajot39s-mahajhut-opened-narendra-modi
poll-of-mahajot39s-mahajhut-opened-narendra-modi
देश

महाजोट के महाझूठ की पोल खुली: नरेन्द्र मोदी

news

- असम में अंतिम चरण के मतदान से पूर्व प्रधानमंत्री ने आखिरी चुनावी सभा की बाक्सा (असम), 03 अप्रैल (हि.स.)। असम में विधानसभा चुनावों के तीसरे व अंतिम चरण के मतदान से पूर्व शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी अंतिम चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने बोडो भाषा में संबोधित करते हुए कहा कि यह मेरे चुनाव प्रचार का आखिर चरण है। उन्होंने कहा कि यहां उपस्थित लोगों की भीड़ से यह साफ हो गया है कि महाजोट के महाझूठ की पोल खुल चुकी है। बाक्सा जिला के तामुलपुर विधानसभा के नाग्रीजुली स्थित लाउपारा मैदान में प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा और यूपीपीएल उम्मीदवारों के लिए चुनावी जनसभा को संबोधित किया। इस जनसभा के जरिए तामुलपुर के उम्मीदवार राम बोडो, चापागुरी के उम्मीदवार भूपेंद्र बोडो और बरमा विधानसभा क्षेत्र के उम्मीदवार यूजी ब्रह्म के लिए समर्थन मांगा। उन्होंने कांग्रेस और एआईयूडीएफ को लेकर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि अभी से असम पर 05 वर्ष के बाद कब्जा करने की योजना बनायी जा रही है। उसको हमें समझना होगा, इसलिए सभी मिलकर असम को बचाने के लिए अपना वोट देकर ऐसे षडयंत्रों को रोकना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं अपने राजनीति अनुभव के आधार कहता हूं कि असम में एक बार फिर आप लोगों ने एनडीए की सरकार बनाना तय कर लिया है। असम की पहचान का बार-बार अपमान करने वालों को असम के लोगों को बर्दाश्त नहीं है। असम को दशकों तक हिंसा और अस्थिरता देने वाले अब असम के लोगों को एक पल भी स्वीकार नहीं हैं। यह साफ दिखता है कि असम के लोग विकास के साथ हैं। असम के लोग स्थितरता के साथ हैं। असम के लोग शांति, भाईचारा, सद्भाव, एकता के साथ हैं। यह एनडीए सरकार के प्रति सद्भावना का असर है कि नये साथी भी हमारे साथ जुड़ रहे हैं। असम के तेज विकास के लिए मिलकर काम जरूरी है। उन्होंने स्थानीय विभिन्न महान विभूतियों को याद करते हुए कहा कि इस क्षेत्र के विकास के लिए उन्होंने जो सपना देखा था, उसे पूरा किया जाएगा। बीते पांच वर्षों में एनडीए की डबल इंजन की सरकार ने डबल फायदा दिलाने का कार्य किया है। साथ ही इस क्षेत्र का विकास, महिलाओं का जीवन आसान बनाने और नये अवसर बढ़ने के लिए कार्य किये जा रहे हैं। वर्षों से लोग चाहते थे कि तेजी से पुल, सड़क बने, यह काम हमारी एनडीए की सरकार ने किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते पांच वर्षों में राज्य में अनेक पुलों का निर्माण हुआ है। इस समय में भी असम में आधा दर्जन बड़े पुलों पर काम चल रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में पूर्व की तुलना में डबल सड़कें बनी हैं। रेलवे, सड़क, एयर पोर्ट की क्षमता को बढ़ाया जा रहा है। नये क्षेत्रों में भी काम तेजी से हो रहा है। विभिन्न कार्यों की चर्चा करते हुए असम के विकास के लिए उठाये गये कदमों को जनता के सामने साझ किया। उन्होंने कहा कि नया असम आत्मनिर्भर असम की ओर आगे बढ़ रहा है। विकास की इस गति को बढ़ाए रखने के लिए एनडीए की सरकार बहुत जरूरी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम ईमानदारी के साथ काम करने वाले लोग हैं। हमारी नीति और हमारी नीयत में सबका विकास है। गरीबों को पक्का घर मिल रहा है, शौचालय, गैस कनेक्शन सभी को मिला। प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना का लाभ सभी को मिला। यही तो हमारा काम है। आयुष्मान भारत के तहत पांच लाख रुपये के मुफ्त इलाज की सुविधा सभी को मिला है। हम कोई भेदभाव नहीं करते हैं। यही हमारे सिद्धांत हैं। राजनीति से परे राष्ट्र नीति के लिए हम लोग जीने वाले हैं। नरेन्द्र मोदी ने कहा कि एनडीए सरकार मानती है कि किसी भी क्षेत्र के लोगों का विकास भेदभाव से नहीं सद्भाव से होता है। इसी सद्भावना का परिणाम है कि लंबे इंतजार के बाद बोड़ो समझौता हो सका। बहुत लोगों ने इसके लिए प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि हमारी रैलियों में माता-बहनें बड़ी संख्या में शामिल होती हैं। वे चाहती हैं कि उनके बेटे हथियार न उठाएं, हम इसको पूरा करेंगे। बोड़ो समझौते की विस्तार से व्याख्या किया। उन्होंने कहा कि माता-बहनों के बेटों के सपने को पूरा करने के लिए हम लगातार प्रयास करेंगे। पिछले डेढ़ साल से इलाके में शांति तेजी से आगे बढ़ रही है। इसके लिए प्रमोद बोड़ो जैसे नेता भी भरपूर प्रयास किया है। कांग्रेस के शासनकाल ने बम-बंदूक का लंबा दौर दिया। एनडीए सरकार शांति और सद्भावना के साथ आगे बढ़ रही है। मुख्य धारा में लौटने वाले लोगों को आगे बढ़ाना हम सभी की जिम्मेदारी है। जो अभी भी हथियार उठाए हुए हैं, वे भी सामने आए, उनके लिए भी सराकर काम करेगी। असम सरकार का प्रयास निरंतर चल रहा है। शेष समस्याओं का समाधान भी तलाशा जाएगा। इस क्षेत्र में टूरिज्म की काफी संभावना है। तेज इंटरनेट व पर्यटन को आगे बढ़ाने के लिए कार्य किये जाएंगे। नये पुल बनाए जाएंगे। उन्होंने बाढ़ और पानी की कमी को लेकर भी काम करने का आश्वासन दिया। पीने के पानी के लिए हर घर जल को 02 मई के बाद और तेजी से आगे बढ़ाया जाएगा। असम के सभी परिवार को पाइप से पानी देने का कार्य किया जाएगा। चाय बागान में एनडीए सरकार के द्वारा उठाये गये कदमों की चर्चा करते हुए कहा कि चाय बागान के लिए एक हजार करोड़ रुयपे दिये गये हैं। चाय श्रमिकों की मजदूरी को भी बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने नये मतदाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि वे जब वोट डालेंगे तो यह तय होगा कि असम आने वाले दिनों कितना आगे जाएगा। आज का वोट असम के 25 वर्ष के भविष्य को तय करेगा। दो चरणों में लोगों ने अपना दायित्व निभा दिया है। अब निचले असम के लोगों को महाजोत के महाझूठ को नकारना है। हिन्दुस्थान समाचार/अरविंद/सुनीत