police-should-not-harass-the-general-public-in-the-name-of-hoarding-and-black-marketing-high-court
police-should-not-harass-the-general-public-in-the-name-of-hoarding-and-black-marketing-high-court
देश

जमाखोरी और कालाबाजारी के नाम पर आम जनता को परेशान न करे पुलिसः हाईकोर्ट

news

नई दिल्ली, 03 जून (हि.स.)। दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा है कि जमाखोरों और कालाबाजारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहने का मतलब यह नहीं था कि आम जनता को परेशान किया जाए। पुलिस अधिकारी अपनी फोर्स को इस मुद्दे पर संवेदनशील बनाएं। जस्टिस विपिन सांघी की अध्यक्षता वाली बेंच ने ट्रायल कोर्ट को जमाखोरों और कालाबाजारियों के खिलाफ दर्ज मामलों पर मेरिट के आधार पर फैसला करने का निर्देश दिया। सुनवाई के दौरान एक आरोपित की ओर से वकील समुद्र सारंगी ने जब्त किए गए ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स को छोड़ने की मांग की। तब कोर्ट ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति बेचने के लिए दो सौ ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स आयात कर रहा है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की जानी चाहिए। इसलिए जब्त किए गए ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स छोड़ देना चाहिए। उन्हें केस प्रॉपर्टी कहकर नहीं रखा जा सकता है। तब वकील सुनील चौधरी ने कहा कि ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स को छोड़ने से पहले बड़ा सवाल ये है कि ये आवश्यक वस्तु है कि नहीं। उन्होंने कहा कि आरोपित ने इनवॉयस पर खरीदा है और अब उन्हें छोड़ दिया गया है। आरोपित को नोटिस दिया गया है। अगर कल हमारे खिलाफ केस दोबारा खोला जाएगा तो आरोपित से खरीदे गए कंसेट्रेटर का क्या होगा। उन्होंने कहा कि लोगों ने इनवॉयस पर कंसेंट्रेटर खरीदा, उस पर जीएसटी भरा और अब उन्हें छोड़ भी दिया गया। सुनवाई के दौरान वकील प्रदीप दहिया ने कहा कि पुलिस ज्यादती के कई मामले हैं। इस पर कोर्ट ने कहा कि जो भी आपत्तियां हैं वे एमिकस क्युरी को बताएं। अगर कोर्ट की अवमानना नहीं होगी तो हम बताएंगे। तब एक दूसरे आरोपित की ओर से वकील रवि रंजन ने कहा कि जांच अधिकारी को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया जाए। पुलिस पूरे परिवार को प्रताड़ित कर रही है। उसके बाद कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि वे अपनी फोर्स को संवेदनशील बनाएं। लोगों को प्रताड़ित मत करें। पुलिस अधिकारी राजेश देव ने कहा कि कोरोना को लेकर 630 केस दर्ज किए गए हैं। 108 मामलों में जब्ती हुई है। उन्होंने कहा कि पुलिस फोर्स को संवेदनशील बनाया जाएगा। तब कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से कहा कि ऐसे दिशानिर्देश बनाएं कि क्या जमाखोरी है, क्या कालाबाजारी। उसके बाद कोर्ट ने कोर्ट की अवमानना के सभी आरोपितों को चार हफ्ते में जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत