one-week-lockdown-in-amravati
one-week-lockdown-in-amravati
देश

अमरावती में एक हफ्ते का लॉकडाउन

news

मुंबई, 21 फरवरी (हि.स.)। मुंबई के साथ ही पुणे में भी कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। हालात ख़राब होते देख स्थानीय प्रशासन ने लॉकडाउन घोषित करने का फैसला किया है। अनलॉक के बाद पहला लॉकडाउन लगाया जा रहा है। अमरावती, पुणे समेत मुंबई में भी लॉकडाउन करने का फैसला किया गया है। मुंबई महानगर पालिका भी कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए होटल, बार, रेस्टोरेंट्स और समारोह स्थलों पर कड़ी कार्रवाई कर रही है। नियमों की अनदेखी होने पर फाइन वसूला रहा है। कई जगहों पर सील ठोका जा रहा है। बीएमसी ने फाइन के जरिए पिछले 24 घंटे में एक लाख रुपए का जुर्माना वसूला है, जबकि माहिम में एक होटल सील कर दिया गया। पुणे के विभागीय आयुक्त सौरभ रावत ने बताया कि जिले के सभी स्कूल, कॉलेज और कोचिंग क्लासेस 28 फरवरी तक बंद रखने का फैसला लिया गया है। केवल प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए ही 50 फ़ीसदी अटेंडेंस होगी। प्राइवेट और सरकारी सभी कार्यक्रमों और शादियों में भी 100 लोगों को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा आपातकालीन सर्विसेज को छोड़ते हुए बाकी सभी सेवाएं रात 11 से सुबह 6:00 बजे तक बंद रहेगी। पुणे में कोरोना के हालात देखने के लिए राज्य के उप मुख्यमंत्री अजित पवार रविवार की सुबह पुणे पहुंचे। उन्होंने कैबिनेट मंत्री दिलीप वलसे पाटील, सांसद वंदना चौहान, विभागीय आयुक्त सौरभ रावत, जिला अधिकारी डॉक्टर राजेश देशमुख, पूणे मनपा आयुक्त विक्रम कुमार, पुणे के महापौर मुरलीधर मोहल के साथ बैठक की। महिला और बाल विकास मंत्री यशोमती ठाकुर ने विदर्भ रीजन के अमरावती में एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगा दिया है। यह लॉकडाउन सोमवार की शाम 8 बजे से अमरावती शहर और अचलपुर शहर में लागू किया जाएगा। बता दें कि महाराष्ट्र में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद यह पहला लॉकडाउन होगा। विदर्भ रीजन के लगभग सभी जिलों में कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं। शहर को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। इससे पहले 12 हॉटस्पॉट्स की पहचान की गई थी। 14 दिनों तक के लिए लोगों की आवाजाही पर भी प्रतिबंध लगाए गए थे, लेकिन अब पूरे शहर में ही लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है। नागपुर में भी नागरिकों के आग्रह किया जा रहा है कि बेहद जरूरी होने पर ही वे घरों से बाहर निकलें। कोरोना के नियमों का उल्लंघन करने वालों से प्रशासन सख्ती से निपट रहा है। प्रतिबंधात्मक निर्देशों का पालन नहीं करने वालों से अब तक एक करोड़ रुपए का दंड वसूला जा चुका है। कम्युनिटी हॉल, रिसॉर्ट, होटल, लॉज के लिए कई पाबंदियां लगाई गई हैं। हिन्दुस्थान समाचार/राजबहादुर