अब यूपी के कासगंज, जौनपुर का नाम बदलने की हो रही मांग

 अब यूपी के कासगंज, जौनपुर का नाम बदलने की हो रही मांग
now-there-is-a-demand-to-change-the-name-of-kasganj-jaunpur-in-up

कासगंज, जौनपुर, 7 सितम्बर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश में जिलों के नाम बदलने की मांग जोरों पर है। कासगंज में जिला पंचायत बोर्ड ने एक प्रस्ताव पारित किया है जिसमें कहा गया है कि कासगंज का नाम बदलकर पूर्व मुख्यमंत्री की याद में कल्याण सिंह नगर किया जाना चाहिए। कासगंज जिला पंचायत अध्यक्ष रत्नेश कश्यप ने कहा कि प्रस्ताव पिछले सप्ताह बोर्ड की बैठक में सर्वसम्मति से पारित किया गया है और अब इसे अंतिम मंजूरी के लिए राज्य सरकार के पास भेजा जाएगा। प्रस्ताव के अनुसार, कल्याण सिंह का कासगंज जिले के साथ घनिष्ठ संबंध था। वह हमेशा कासगंज को अपने दूसरे घर के रूप में संदर्भित करते थे। कासगंज के लोग उनका बहुत सम्मान करते हैं और इसलिए, राज्य सरकार के लिए जिले का नाम उनके नाम पर रखना उचित चाहिए। हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ इस मांग को आगे बढ़ाएंगे। कासगंज जिले को 17 अप्रैल, 2008 को मायावती सरकार के दौरान एटा से अलग कर बनाया गया था। उस दौरान कासगंज जिले का नाम बदलकर कांशीराम नगर कर दिया गया था। बाद में 2012 में, सरकार बदलने के बाद, तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कासगंज जिले का नाम कांशीराम नगर से कासगंज कर दिया था। इस बीच भाजपा विधायक दिनेश चौधरी ने भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर जौनपुर जिले का नाम बदलकर जमदग्निपुरम करने की मांग की है। ऋषि जमदग्नि भगवान विष्णु के छठे अवतार परशुराम के पिता थे। चौधरी ने कहा कि जौनपुर का मूल नाम जमदग्निपुरम था लेकिन मोहम्मद बिन-तुगलक ने अपने भाई जूना खान के नाम पर इसे बदलकर जौनपुर कर दिया था। राज्य सरकार पहले ही इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज, फैजाबाद का नाम अयोध्या और मुगलसराय का नाम दीन दयाल उपाध्याय नगर कर चुकी है। सुल्तानपुर का नाम कुशभवनपुर, अलीगढ़ से हरिगढ़, फिरोजाबाद से चंद्रनगर और मैनपुरी का नाम मयन नगर करने का प्रस्ताव योगी आदित्यनाथ सरकार के पास पहले से ही लंबित है। --आईएएनएस एमएसबी/आरएचए

अन्य खबरें

No stories found.