no-evidence-of-chinese-cyber-attack-on-power-system-minister-of-power
no-evidence-of-chinese-cyber-attack-on-power-system-minister-of-power
देश

विद्युत प्रणाली पर चीनी साइबर हमले का सबूत नहीं : बिजली मंत्री

news

नई दिल्ली, 02 मार्च (हि.स.)। केन्द्रीय बिजली मंत्री आरके सिंह ने कहा है कि इस बात का कोई साक्ष्य नहीं है कि मुंबई में पिछले वर्ष विद्युत ग्रिड के फेल होने का कारण चीन से हुआ साइबर हमला था। मुंबई में हुए ब्लैक आउट पर उपजे विवाद के संबंध में सिंह ने मंगलवार को कहा कि दो दलों ने इस मामले की जांच की थी। एक दल का निष्कर्ष था कि विद्युत व्यवधान मानव गलती के कारण हुआ, साइबर हमले के कारण नहीं। दूसरे दल ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि साइबर हमला हुआ लेकिन यह मुंबई के ग्रिड फैल होने से जुड़ा हुआ नहीं था। दूसरी ओर मुंबई में हुए ब्लैकआउट के संबंध में महाराष्ट्र सरकार ने भी जांच कराई थी। जांच का का निष्कर्ष था कि बिजली ग्रीड पर साइबर हमला हुआ। इस संबंध में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने केन्द्रीय बिजली मंत्री से बात की है। देशमुख के अनुसार साइबर हमले का मुद्दा केवल मुंबई तक सीमित नहीं है। इसका देशभर में असर हो सकता है। इस मामले का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। देशमुख ने कहा कि केन्द्रीय बिजली मंत्री ने पूरे मामले का ब्यौरा मांगा है तथा सतर्क रहने को कहा है। उल्लेखनीय है कि साइबर हमले के मालमे में अमेरिका के समाचार पत्र न्यूयार्क टाइम्स ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन सरकार की एजेंसियों ने मुंबई की विद्युत प्रणाली पर साइबर हमला किया था। अखबार का दावा था कि पूर्वी लद्दाख में सैनिक तनातनी के बीच चीन भारत को यह संदेश देना चाहता था कि वह उसे कितना नुकसान पहुंचा सकता है। अखबार की इस रिपोर्ट का नई दिल्ली स्थित चीनी दूतावास ने खंडन किया था। दूतावास के अनुसार चीन साइबर हमलों के खिलाफ है तथा इस संबंध में कड़ी कार्रवाई करता है। केन्द्रीय बिजली मंत्री आरके सिंह ने कहा कि हमारे पास इस बात के सबूत नहीं है कि साइबर हमला चीन या पाकिस्तान की ओर से किया गया। कुछ लोगों का कहना है कि हमला चीन की ओर से किया गया था लेकिन हमारे पास इसके सबूत नहीं है। जाहिर है कि चीन इस तरह के आरोपों का खंडन करेगा। सिंह ने कहा कि देश के उत्तरी और दक्षिणी इलाकों में लोड वितरण प्रणाली पर साइबर हमला हुआ था लेकिन यह हमारी मुख्य संचालन प्रणाली तक नहीं पहुंच पाया। महाराष्ट्र सरकार ने सूचना दी थी कि उसकी डाटा संग्रहण और निगरानी प्रणाली पर हमला किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/अनूप