निष्पक्ष नहीं रहा यूपी का कोई भी चुनाव : अनजान

निष्पक्ष नहीं रहा यूपी का कोई भी चुनाव : अनजान
no-election-in-up-was-fair-unknown

नई दिल्ली, 29 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव, ग्राम प्रधान सहित बीडीसी के चुनाव को लेकर को लेकर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने भाजपा पर गंभीर आरोप लगाएं हैं। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अनजान ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि यूपी के 16 जिलों के जिला पंचायत अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित हो गए और इनमें सभी भाजपा के जीते। उन्होंने कहा कि जब भाजपा को बहुमत ही नहीं मिला तो अध्यक्ष कैसे चुने गए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने लोकतांत्रिक मर्यादाओं की सारी सीमाएं तोड़ दी हैं। यूपी में खुले आम जिला पंचायत के निर्दलीय सदस्यों और दूसरे दलों के सदस्यों को प्रशासनिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ रहा है। अनजान ने कहा कि जिला पंचायत सदस्य भाजपा के जीते ही नहीं लेकिन जिला अध्यक्ष भाजपा के बन रहे हैं। इस बात से पता चलता है कि भाजपा किस तरह से चुनाव करा रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में हाल ही में संपन्न हुआ तीन स्तरीय पंचायत चुनाव ग्राम प्रधान , बीडीसी मेंबर व जिला पंचायत सदस्यों के चुनाव में व्यापक हेरफेर ,नियम कानूनों की अवहेलना, खुला बाजार बनकर रह गया। चुनाव के बाद तत्काल ही इन्हीं कारणों से ब्लाक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव नहीं कराए गए और कुछ अनावश्यक तर्कों का सहारा देकर टाले गए । चुनाव परिणामों से पूर्व जिला पंचायत के सदस्यों के चुनाव में विभिन्न राजनीतिक दलों ने अपने घोषित उम्मीदवार करके चुनाव में भाग लिया। सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के घोषित उम्मीदवारों ने कुल 11 जिलों में बहुमत हासिल किया। 3050 जिला पंचायत सदस्यों में 1020 निर्दलीय निर्वाचित हुए। समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार लगभग 18 जिलों में बहुमत पाने में सफल रहे। प्रदेश के प्रमुख धार्मिक नगरी अयोध्या ,मथुरा और काशी भाजपा के आधे दर्जन भाजपा के सदस्य ही निर्वाचित हो सके। जिस प्रकार से जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव पंचायत राज व्यवस्था नियमों को चुनौती देकर कराए जा रहे हैं वह गंभीर प्रश्न खड़े कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/आशुतोष

अन्य खबरें

No stories found.