ngt-set-up-a-committee-to-investigate-the-explosion-in-the-firecracker-factory-in-tamil-nadu
ngt-set-up-a-committee-to-investigate-the-explosion-in-the-firecracker-factory-in-tamil-nadu
देश

एनजीटी ने तमिलनाडु की पटाखा फैक्टरी में विस्फोट की जांच के लिए बनाई कमेटी

news

- जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली बेंच ने एक महीने के अंदर मांगी रिपोर्ट नई दिल्ली, 18 फरवरी (हि.स.)। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने हाल ही में तमिलनाडु के विरुधुनगर में पटाखा बनाने वाली फैक्टरी में हुए विस्फोट पर स्वत: संज्ञान लेते हुए इसकी जांच के लिए आठ सदस्यीय कमेटी का गठन किया है। एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली बेंच ने कमेटी को एक महीने के अंदर रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया। मामले की अगली सुनवाई 30 अप्रैल को होगी। एनजीटी ने तमिलनाडु सरकार, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, विरुधुनगर के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट और श्री मरियम्मल फायरवर्क्स फैक्टरी को नोटिस जारी किया है। एनजीटी ने जो कमेटी बनाई है, उसकी अध्यक्षता पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट और मद्रास हाईकोर्ट के पूर्व जज जस्टिस के कन्नन करेंगे। एनजीटी ने जो कमेटी बनाई है उसमें वन और पर्यावरण मंत्रालय का एक प्रतिनिधि, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का एक प्रतिनिधि, तमिलनाडु राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार का एक प्रतिनिधि, आईआईटी चेन्नई के केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के हेड, चीफ कंट्रोल ऑफ एक्सप्लोसिव्स का एक नामित सदस्य. पेट्रोलियम एंड एक्सप्लोसिव सेफ्टी आर्गनाइजेशन (पेसो), दिल्ली का एक नामित सदस्य और तमिलनाडु के चीफ इंस्पेक्टर ऑफ फैक्टरीज शामिल होंगे। इस कमेटी की नोडल एजेंसी तमिलनाडु राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड संयुक्त रूप से होंगे। एनजीटी ने विरुधुनगर के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट और तमिलनाडु राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय को निर्देश दिया कि वो तथ्यों की छानबीन में कमेटी को सहयोग करेगा। एनजीटी ने एक अखबार की खबर पर संज्ञान लिया है। खबर के मुताबिक पिछले 12 फरवरी को दोपहर डेढ़ बजे विरुधुनगर की पटाखा फैक्टरी में आग लगने से 19 लोगों की मौत हो गई थी और 30 लोग घायल हो गए थे। इनमें से कुछ को सत्तुर के सरकारी अस्पताल और कुछ को कोविलपट्टी और शिवकाशी के सरकारी अस्पतालों में भर्ती कराया गया था। इस घटना में मृत लोगों के परिजनों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से दो-दो लाख रुपये और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की गई है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री सहायता कोष से इस घटना में मृत सभी लोगों के परिजनों को तीन-तीन लाख रुपये और सभी घायलों को एक लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की गई है। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/सुनीत-hindusthansamachar.in

AD
AD